- 4 रुपया से अधिक भी अधिक की हुई बढ़ोत्तरी

- इतना तो पिछले पांच महीनों में नहीं बढ़ा

आगरा. हर दिन पेट्रोल-डीजल के दाम तय क्या होने लगे कि जैसे आग लग गई हो? पिछले 45 दिनों में हर दिन पेट्रोल के रेट चढ़ते-चढ़ते साढ़े चार रुपया से ज्यादा बढ़ गए हैं. लोगों की जेब हर रोज कट रही है. वह खाली जेब से हैरान है.

केंद्र सरकार ने हर रोज पेट्रोल-डीजल के दाम तय करने का निर्णय लिया. ये 16 जून 2017 से लागू भी कर दिए गए. उस दिन से हर दिन पेट्रोल-डीजल के दाम तय होने लगे हैं. 15 दिनों तक पेट्रोल में कमी और बढ़ोत्तरी दोनों होती रही. फिर जुलाई से अगस्त 2017 के बीच पेट्रोल के दामों पर लगातार बढ़ोत्तरी होती गई. इन महज कुछ दिनों में 4 रुपया 37 पैसे तक पेट्रोल की बढ़ोत्तरी हुई. इतने कम समय में इतनी बढ़ोत्तरी नहीं हुई. पेट्रोल के दामों में आग लगी और लोगों की जेब लगातार कटती जा रही है. खासबात यह है कि लोग खर्च का गुणाभाग लगा रहा है, लेकिन उन्हें आभास ही नहीं हो रहा है कि हर दिन पेट्रोल के बढ़ते दाम जेब काट रहे हैं.

लोगों का नहीं है ध्यान

पहले पेट्रोल और डीजल के दाम 15 दिनों में घटते-बढ़ते या स्थिर रहते थे. कई दिनों में रेट घटने-बढ़ने से पब्लिक के ध्यान में रहता था. लेकिन सरकार के हर दिन दाम तय करने के निर्णय के बाद पब्लिक को ध्यान नहीं रहता है और पिछले 17 दिनों से चुपके से थोड़ा-थोड़ा पैसा लगातार बढ़ाते रहे. ये लोगों के ध्यान में भी नहीं आया.

15 दिनों से होता था एनालिसिस

पहले हर 15 दिनों में पेट्रोल और डीजल के दामों का एनालिसिस होता था. इसमें दाम बढ़ते या घटते थे. इससे लोगों को दाम याद रहते थे. हर दिन दामों में बदलाव याद रखना मुश्किल हो गया है.

पिछले महीनों में दाम घटे भी

अप्रैल 2017 में पेट्रोल की कीमत 66.29 रुपया थी. मई महीने की शुरुआत में दाम 68.09 रुपया हुए, फिर 16 मई को दाम घटकर 65 रुपया 32 पैसे तक हो गए. ये कमी जून तक दर्ज की गई.