15 अप्रैल से 15 मई के बीच होंगी पीजी एंड लॉ की सेमेस्टर परीक्षाएं

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी और संघटक महाविद्यालयों में 08 मार्च से वार्षिक परीक्षाओं का आगाज हो चुका है। ये परीक्षाएं 11 मई तक संचालित की जाएंगी। इनमें बीए, बीएससी एवं बीकॉम प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय वर्ष की परीक्षाएं शामिल हैं। एकेडमिक सेशन 2018-19 की स्नातक स्तर की परीक्षाओं की उत्तपुस्तिकाओं के मूल्यांकन और परिणाम की तैयारी भी की जा रही है।

एक सप्ताह के गैप में मूल्यांकन

एयू एडमिनिस्ट्रेशन ने स्नातक स्तर के सभी परीक्षाओं के परिणाम 30 जून तक निकाल देने का निर्णय लिया है। ताकि नए सत्र में सही समय पर पढ़ाई की शुरुआत हो सके। इसके लिए अभी से उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के कार्य को तेजी से अमली जामा पहनाए जाने काम किया जा रहा है। एयू एडमिनिस्ट्रेशन की प्लानिंग है कि मार्च में परीक्षा के साथ ही मूल्यांकन का कार्य भी शुरु कर दिया जाए। जैसे-जैसे परीक्षाएं होती जाएंगी। कापियों का मूल्यांकन भी एक सप्ताह के गैप के बाद शुरु कर दिया जाएगा। इससे निर्धारित समय में परिणाम जारी किया जा सकेगा।

लॉ की परीक्षाओं को लेकर सतर्कता

इविवि में सेमेस्टर लेवल की पोस्ट ग्रेजुएट और लॉ की परीक्षाएं 15 अप्रैल से शुरु होंगी। ये परीक्षाएं 15 मई तक संचालित की जाएंगी। पीजी और लॉ की सेमेस्टर परीक्षाओं में परीक्षार्थियों की कुल संख्या 14,056 हैं। पीजी की परीक्षाओं का संचालन कॉलेज लेवल पर भी होगा। इसके अलावा लॉ की परीक्षाएं सीएमपी और एडीसी में भी होंगी। परीक्षा नियंत्रक रमेन्द्र सिंह ने बताया कि लॉ की परीक्षाओं में होने वाली नकल और हंगामें को सख्ती से रोका जाएगा। उन्होंने बताया कि सीएमपी में लॉ की परीक्षाएं गोबर गली स्थित कैम्पस में न होकर सीएमपी मेन कैम्पस में करवाई जाएंगी। उन्होंने बताया कि परीक्षा में इस बार गेस्ट फैकेल्टी की ड्यूटी लगाई जाएगी। लेकिन शोध छात्रों से यह काम हेड्स की पर्मिशन से ही लिया जाएगा।

सत्र 2019 की परीक्षा में वरिष्ठ आचार्यो जिसमें संकायों के अध्यक्ष, अधिष्ठाता, महाविद्यालय विकास एवं अधिष्ठाता, विद्यार्थी कल्याण अधिष्ठाता सम्मिलित होंगे। इनकी कमेटी बनाई गई है जो पर्यवेक्षक के रुप में समय-समय पर परीक्षा का निरीक्षण करके आवश्यक होने पर परीक्षा नियंत्रक को अपने सुझाव भी देंगे।

प्रो। रमेन्द्र कुमार सिंह, परीक्षा नियंत्रक, एयू