अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close
शहर चुनें close

Dashahara fair program in allahabad

Mon 02-Oct-2017 12:41:02
1/5

दशहरा मेले में निकाली गई आकर्षक झांकी.

2/5

शनिवार रात चौक के मेले में निकाली गई राधा व कृष्ण की चौकी.

3/5

चौक मेले में निकाली गई मनमोहक चौकी.

4/5

रावण वध के देखने के लिए उमड़ी भीड.

5/5

चौक मेले में निकाली गई मनमोहक चौकी.

About The Gallery

पजावा रामलीला कमेटी की ओर से विजयादशमी के दिन ककराहा घाट पर रावण का वध किया गया. लाइट एंड साउंड सिस्टम के जरिए घाट पर पति की मृत्यु खबर जब सती सुलोचना तक पहुंची तो उनके विलाप से लंका दहल उठी. लंकेश के दरबार में शोक की लहर पसरी. सभी वीरों के एक-एक कर मारे जाने से दुखी लंकेश ने राम से स्वंय युद्ध का निर्णय लिया. राम व रावण में युद्ध होता है. फिर अग्नि बाण चलता है और 15 फिट का रावण धूं-धूं कर जल उठता है. जनमानस में खुशियां छा जाती हैं, घंटा-घडिय़ाल बजता है और जमकर आतिशबाजी होती है. श्री पथरचट्टी रामलीला कमेटी के परिसर में रावण वध की लीला का मंचन किया गया. दरबार में रावण गहरी निराशा में डुबा स्वयं रणक्षेत्र में आता है. दुर्वचन कहते हुए वह राम पर प्रहार करता है. घोर संग्राम होता है और राम रावण का सर काटते हैं लेकिन वही सर उसके धड़ पर वापस लग जाता है. बार-बार यही होता है तो राम के माथे पर चिंता की लकीर खींच जाती है. तब विभीषण बताते हैं कि रावण की नाभि में अमृत कुंड है. इसके बाद राम एक-एक कर 31 बाण छोड़ते हैं. पहले रावण की भुजाएं कटती हैं फिर दस सर कट जाते हैं. यह दृश्य दर्शकों को जितना अचरज भरा लगा, उससे ज्यादा खुश दर्शक तब हुए जब रावण के सभी सर कट जाते है. परिसर 'जय श्रीराम-जय श्रीरामÓ व 'राम की जय होÓ जयकारों से गूंज उठता है.