अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें close
शहर चुनें close

लड़की घर की लक्ष्‍मी या बाप का बोझ, जाने ऐसी 15 बातें

Fri 10-Jun-2016 04:53:08
1/15

1- भारतीय माता पिता चाहते हैं कि उनके बच्‍चे भीड़ से अलग रहे पर वह उनसे आशा यही करते हैं कि जो भीड़ कर रही है वहीं उनके बच्‍चे करें।

2/15

2- भारत एक ऐसा देश है जहां राजनीति हमे जुदा करती है और आतंकवादी हमे एक दूसरे के करीब लाते हैं।

3/15

3- हमारे भारत देश में आप को बहुत रास्‍ते दिखेंगे सिर्फ एक वन वे रोड को पार करने के लिए।

4/15

4- भारत एक ऐसा देश है जहां जनता के बीच सू-सू करना तो ठीक है पर पब्लिक में किस करना घोर अपराध है।

5/15

5- भारत एक ऐसा देश है जहां सभी को जल्‍दी है फिर भी कोई समय पर नहीं पहुंचता है।

6/15

6- प्रियंका चोपड़ा ने मैरी कॉम में खेल कर करोड़ों रूपये कमाए जबकि मैरी कॉम अपने खेल के पूरे करियर में इतना नहीं कमा सकती हैं।

7/15

7- भारत में लड़कियों को अनजान लोगों से बात करने में खतरा है पर एक अंजान इंसान से शादी करना सबसे अच्‍छी बात है।

8/15

8- भारत में अगर आप अंग्रेजी में कसम खाओ तो लोग आप को कूल समझते हैं। वहीं अगर आप हिंदी में सौगंध लो तो लोग गवांर समझते हैं।

9/15

9- भारत में जो लोग गीता और कुरान को लेकर दंगा करते हैं उन्‍होंने ने कभी दोनों किताबें पढ़ी भी नही होती हैं।

10/15

10- हम इलेक्‍शन के दौरान उस कंडीडेट को वोट नहीं करते जिसे हम ज्‍यादा पसंद करते हैं बल्कि हम उसे वोट करते हैं जिसे हम सबसे ज्‍यादा नापसंद करते हैं।

11/15

11- भारत एक ऐसा देश है जहां लड़की घर की लक्ष्‍मी है और लड़की बाप का बोझ भी होती है।

12/15

12- अरबपतियों की सूची में भारत छठे स्‍थान पर है लेकिन भारत में रहने वाला विश्‍व का एक तिहाई आदमी गरीब है।

13/15

13- भारत में बेटियों की शिक्षा से ज्‍यादा खर्च उनकी शादी में किया जाता है।

14/15

14- भारत वो देश है जहां हम पैरों में पहनने वाला जूता तो एयरकंडीशन शोरूम से लेते हैं लेकिन जो सब्‍जी हम खाते हैं उसे खरीदने के लिए फुटपाथ पर जाते हैं।

15/15

15- भारत एक ऐसा देश है जहां चपरासी की नौकरी करने के लिए आप का आठवीं पास होना जरूरी है पर देश चालने के लिए भारत में शिक्षा की कोई जरूरत नहीं है।

About The Gallery

भारत विविधताओं की भूमि है। भारत में सामाजिक मुद्दों और आर्थिक मुद्दों पर ज्‍यादा विरोध होता है। यहां कुछ लोग कपटी हैं जो इस विरोध को बढ़ावा देते हैं। भारत की समस्‍या है कि यहां हर कोई समस्‍या से निजात तो पाना चाहता है पर उसके लिए कुछ करना नहीं चाहता है। भारत के लोगों के सामने अगर कुछ गलत हो तो वो सिर्फ यही बोलते हैं कि यहां तो चलता है यार। भारतियों का यही रवैया उनके लिए नई-नई समस्‍यायें खड़ी कर देता है। यहां सभी इंतजार करते है कि कोई कुछ करे पर खुद कोई समस्‍या से निजात पाने के लिए संघर्ष नहीं करना चाहता है। क्‍या ये इस देश के और देश के लोगों के लिए सबसे विडंबना नहीं है।