-खुफिया इनपुट के बाद पुलिस, प्रशासन की टीम हुई अलर्ट

-विरोध की आशंका पर गोपनीय तरीके से रखी जा रही है नजर

पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन को लेकर पुलिस प्रशासन सहित अन्य खुफिया टीमें एलर्ट हो गई हैं. काशी विश्वनाथ कॉरीडोर मसला, बीएचयू स्टूडेंट्स सहित कुछ अन्य संगठनों की ओर से बखेड़ा खड़ा करने की सुगबुगाहट पर पुलिस प्रशासन की नींद उड़ी हुई है. खुफिया इनपुट में कहा गया है कि विश्वनाथ कॉरीडोर से जुड़े कुछ लोग सभास्थल पर पहुंचकर विरोध दर्ज करा सकते हैं. शनिवार का दिन होने के चलते काला सामान लेकर लोग जा सकते हैं. ऐसे में विशेष सावधानी बरती जाए. इस इनपुट के बाद पुलिस प्रशासन की टीम एक्टिव हो गई है.

लग गया गोपनीय पहरा

स्टूडेंट्स के निष्कासन के मसले पर बीएचयू के छात्र, श्रीकाशी विश्वनाथ कॉरीडोर मसले पर विश्वनाथ मंदिर बचाओ समिति से जुड़े लोगों के अलावा शिक्षा मित्र व किसान मोर्चा के लोग भी पीएम के आगमन पर विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं. ऐसे में यह ध्यान रखा जा रहा है कि किसी की भी ओर से विरोध न किया जा सके. इसके लिए संगठनों के कार्यालयों संग संबंधित लोगों पर गोपनीय पहरा लगा दिया गया है. अफसरों ने साफ किया है कि किसी ने यदि कार्यक्रम में अवरोध उत्पन्न किया तो उसे जेल भेजा जाना तय है.

भीड़ में सादे वर्दी में रहेगी पुलिस

राजातालाब के कचनार में आयोजित पीएम की सभा में एक लाख की भीड़ के आने की संभावना है. ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद रखने के लिए शुक्रवार को पुलिस अधिकारियों की कई राउंड बैठक हुई. तय किया गया कि बिना तलाशी किसी को भी एंट्री नहीं दी जाएगी. भले ही वह कितना भी प्रभावशाली न हो. हर किसी को मेटल डिटेक्टर से होकर गुजरना पडे़गा. संदिग्ध व्यक्तियों पर नजर रखने के लिए पुलिस की एक टीम सादे वेश में चक्रमण करती रहेगी.