नहीं दी गयी यात्रा की आधिकारिक जानकारी
रूस की सफल यात्रा के बाद भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह अफगानिस्ता्न पहुंच गए। वहां पर उनका औपचारिक रूप से भव्य स्वागत किया गया। हालांकि मोदी की इस यात्रा की आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है। प्रधानमंत्री कुछ ही घंटे काबुल में रहेंगे। इस दौरान वे अफगानिस्तान की संसद की नई इमारत का उद्धघाटन करेंगे जिसके निर्माण में भारत ने नौ करोड़ डॉलर की मदद की है।

कामयाब रहा रूस दौरा
इस बीच रूस की यात्रा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन की मुलाकात सफल बताई जा रही है, दोनों ने 16वें भारत-रूस सम्मेलन के अवसर पर औपचारिक बातचीत की। इस दौरान कई रक्षा और परमाणु समझौतों समेत कुल 16 समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए। 226 सैन्य हेलीकॉप्टरों के संयुक्त निर्माण और भारतीय कंपनी की मदद से देश में 12 परमाणु संयंत्र स्थापित करने पर सहमति बन गई है। इसके अलावा, पहली बार पूर्ण रूप से स्वदेशी वायु रक्षा मिसाइल और रडार प्रणाली का निर्माण भारत में होने का रास्ता साफ हो गया है। इस काम को पहली बार देश की निजी कंपनी अंजाम देगी। रिलायंस डिफेंस लिमिटेड और रूसी वायु रक्षा प्रणाली अलमाजआंते बनाने वाली रूसी कंपनी इसे मिलकर तैयार करेंगे।

कई मुद्दों पर बनी सहमति
क्रेमलिन में आयोजित 16वें भारत-रूस के सालाना सम्मेलन के दौरान गुरुवार को भारतीय प्रधानमंत्री और रूसी राष्ट्रपति ने रक्षा, परमाणु सहयोग के साथ ही रूस के तेल और गैस के क्षेत्र में भारतीय कंपनियों की भागेदारी बढ़ाने पर गहन विचार-विमर्श कर सहमति जताई है। दोनों नेताओं ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में दोनों देशों के बीच हुए रक्षा समझौता का ऐलान किया।

inextlive from World News Desk

International News inextlive from World News Desk