vineet.tiwari@inext.co.in

PRAYAGRAJ: संगम की पावन धरती पर चुनावी सभा की संबोधित करने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भला कुंभ के आयोजन को कैसे भूल सकते थे। उन्होंने कुंभ के आयोजन को लेकर यूपी सरकार की पीठ थपथपाई। लेकिन इसकी आड़ में उन्होंने पूर्व में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स की याद भी दिला दी। उन्होंने दोनों आयोजनों की तुलना करते हुए कुंभ को सफल बताया तो कॉमनवेल्थ को घोटाले का नाम दिया। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया के सामने भारत की छवि और क्षमता दिखाने का मौका मिला था। लेकिन कांग्रेस शासन में हुए इस आयोजन ने देश की छवि को दागदार कर दिया।

अतुलनीय है कुंभ मेला

मोदी ने कहाकि एक तरफ कांग्रेस का कॉमनवेल्थ घोटाला है तो दूसरी ओर हमारा अतुलनीय कुंभ। प्रयागराज की जनता के सहयोग से कुंभ का सराहनीय आयोजन रहा। व्यवस्था से लेकर कुंभ में साफ-सफाई और ट्रैफिक प्लान को विश्व भर में सराहा गया। गंगा की साफ-सफाई को लेकर दशकों से बात चल रही थी लेकिन हमने गंगा की अविरलता और निर्मलता का बीड़ा उठाया। कुंभ में आए लोग प्रसन्न होकर वापस लौटे। जिस स्वच्छता को चैलेंज माना जाता था उसे हमने कर दिखाया।

थके हुए नजर आए मोदी

इसके पहले पीएम मोदी ने प्रयागराज में 2014 और 2017 चुनाव में चुनावी रैली को 40 मिनट से अधिक समय तक संबोधित किया था। लेकिन गुरुवार को नरेंद्र मोदी थके हुए नजर आए। बंगाल में दो और यूपी में आजमगढ़ और जौनपुर में रैली के बाद प्रयागराज पहुंचे मोदी का गला पूरी तरह बैठ चुका था। भर्राए हुए गले से उन्होंने महज 25 मिनट बोलकर भाषण की इतिश्री कर दी। थकावट इस कदर थी कि भीड़ से आने वाली मोदी-मोदी की आवाज सुनने के लिए उन्होंने अपना भाषण कुछ सेकंड के लिए रोक दिया और दूसरी लाइन शुरू करने के लिए सांस भरी।