आगरा: 30 साल से वारंटी पुलिस की आंख में धूल झोंके हुए था. पुलिस अब जाकर उसे पकड़ पाई है. 1983 में उस पर मुकदमा पंजीकृत हुआ था. लेकिन वह पुलिस की पकड़ में नहीं आ सका. परिवार ने भी उसकी मौत की झूठी कहानी गढ़ दी. लेकिन दस्तावेज न देने पर स्थाई वारंट जारी हुए. तब से आरोपी फरार चल रहा है. पुलिस अब जाकर उसे पकड़ सकी है.

कई साल पहले दर्ज हुआ था मुकदमा

खैराती टोला निवासी अब्दुल समद पुत्र अब्दुल रहीम के खिलाफ पुलिस ने 1983 में अमानत में खयानत का मुकदमा दर्ज हुआ था. 1985 में परिजनों ने उसकी मौत की जानकारी दी, लेकिन इस संबंध में कोई भी कागज नहीं दिया और न दिखाया. वह कभी कोर्ट में हाजिर नहीं हुआ. इस पर कोर्ट ने उसका स्थाई वारंट जारी कर दिया.

पुलिस को देता रहा गच्चा

शातिर थाना ताजगंज क्षेत्र में कबाड़े की दुकान चलाने लगा. पुलिस को इसकी भनक नहीं थी. थाना ताजगंज पुलिस ने अब जाकर शातिर को पकड़ा है. बुधवार की दोपहर को पुलिस ने उसको पकड़ा. वर्तमान में उसकी उम्र 60 साल के आसपास बताई गई है. जिस दौरान उस पर मुकदमा हुआ उसकी उम्र 28 वर्ष थी. उसने अपनी सजा का समय आराम से गुजार दिया. वह लगातार पुलिस को गच्चा देने में सफल रहा.

18 हजार लीटर पेट्रोल को कर दिया पार

अब्दुल समद एक टैंकर पर क्लीनर था. उस दौरान चालक और अब्दुल समद ने मिल कर 18 हजार लीटर पेट्रोल चोरी कर लिया. पुलिस ने रखवाली पर चोरी किए माल की धारा को भी मुकदमे में शामिल किया. इस मामले में चालक को तीन साल की सजा हुई थी.