-सारनाथ में देर रात हुई मुठभेड़, पुलिस पर गोली चलाकर भागते समय पकड़ा गया पार्षद का भाई

-क्राइम ब्रांच के सिपाही के हाथ को चीरते हुए निकली गोली


varanasi@inext.co.in
VARANASI : सारनाथ के सिंहपुर में गुरुवार की देर रात एनकाउंटर में क्राइम ब्रांच और पुलिस की टीम ने 25 हजार के इनामी बदमाश सलमान उर्फ अन्ना और उसके साथी राहुल यादव को गिरफ्तार कर लिया. सलमान को पैर में दो गोलियां लगी हैं. मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच का सिपाही रमेश तिवारी भी घायल हुआ है. मुठभेड़ की सूचना पर मौके पर एसएसपी, एसपी सिटी व अन्य अधिकारी पहुंचे थे.

पार्षद पर हमले का था आरोपी

चौक के हकाक टोला का रहने वाला सलमान उर्फ अन्ना 3 फरवरी-2016 की रात चेतगंज के पिपलानी कटरा क्षेत्र में दालमंडी के पार्षद विक्की खां पर फायरिंग का मुख्य आरोपी था. इसके अलावा उसके खिलाफ चौक थाने में डकैती, हत्या का प्रयास समेत कई अन्य मामले दर्ज थे. गुरुवार की रात सलमान अपने साथी राहुल को लेकर किसी प्रापर्टी डीलर की हत्या के इरादे से निकला था. मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच और सारनाथ पुलिस ने सिंहपुर इलाके में घेराबंदी कर ली.

घिरने पर की फायरिंग

रिंगरोड के किनारे दो तरफ से घिरे बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग की. खेतों के रास्ते वह बचकर निकलना चाहते थे मगर क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह और सारनाथ इंस्पेक्टर भारत भूषण तिवारी ने समझदारी दिखाते हुए इन्हें घेर लिया. सामने पड़े क्राइम ब्रांच के सिपाही रमेश तिवारी पर बदमाशों ने फायरिंग की. उसकी बाई बांह में गोली लगी. जवाबी फायरिंग में आरोपी सलमान के दाहिने पैर में दो गोलियां लगीं और वह गिर पड़ा. पुलिस टीम ने भाग रहे दूसरे आरोपी को भी दो सौ मीटर पीछा कर अरेस्ट कर लिया. मौके से पिस्टल, कारतूस, चार खोखे, मोबाइल और बाइक बरामद की गई है.

निगम के पार्षद का भाई है राहुल

मौके से पकड़ा गया दूसरा बदमाश नगर निगम पार्षद सुनील उर्फ मछली यादव का भाई है. सुनील पड़ाव पर हुई लूट के मामले में जेल में बंद है. राहुल के खिलाफ चौक, कोतवाली और चेतगंज थानों में कई मामले दर्ज हैं. पुलिस की गोली से घायल हुए सलमान उर्फ अन्ना के खिलाफ 2017 में गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की गई थी. इसके बाद एसएसपी ने उसके खिलाफ 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था.

व्यवसायियों में बना रखा था आतंक

दालमंडी इलाके में पिछले तीन साल में उभरे सलमान गैंग ने व्यवसायियों के बीच खासा आतंक बना रखा था. गिरोह के तीन मुख्य सदस्यों में सलमान के अलावा उसका भाई शाहरुख और अमन हैं. शाहरुख फिलहाल जेल में है और अमन फरार है. चार दिसंबर 2016 में चौक क्षेत्र में व्यवसायी के 10 लाख रुपये रंगदारी न देने पर इसी गिरोह ने उसके दरवाजे पर बम फेंका था. इसके बाद पूरे क्षेत्र में गिरोह की हनक बन गई थी. अकेले सलमान के खिलाफ रंगदारी मांगने के लगभग आधा दर्जन मामले दर्ज हैं.

वर्जन

मुखबिर की सूचना के आधार पर क्राइम ब्रांच और लंका पुलिस ने घेराबंदी की थी. बदमाशों के फायर करने पर पुलिस ने काउंटर फायर किया. पकड़े गए दोनों बदमाशों के खिलाफ रंगदारी और हत्या के प्रयास के कई मामले दर्ज हैं. इनकी क्राइम हिस्ट्री भी पता की जा रही है.

आनंद कुलकर्णी, एसएसपी