पिता ने प्लानिंग कर पुलिस से पकड़वाया शातिर
agra@inext.co.in
AGRA. फर्जी आईएएस अधिकारी ने मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर एक रिटायर्ड ऑफिसर की बेटी का प्रोफाइल देख रिक्वेस्ट भेज दी. इसके बाद बात आगे बढ़ी और बनारस में रिश्ता पक्का हो गया. लेकिन परिजनों को कुछ शक हो गया. रविवार को रिंग सेरेमनी का कार्यक्रम था उस दौरान उसने दस करोड़ की डिमांड कर दी. लेकिन प्रीप्लानिंग के तहत परिजनों ने पुलिस को बुला लिया जिसके बाद उसका भेद खुल गया.

मैट्रिमोनियल साइट पर डाली थी प्रोफाइल
न्यू आगरा क्षेत्र निवासी शिक्षा विभाग के एक रिटायर्ड अधिकारी ने अपनी डॉक्ट्रेट बेटी के लिए सुयोग्य वर की तलाश करने को उसकी प्रोफाइल मैट्रिमोनियल वेबसाइट पर डाली थी. दो महीने पहले गाजीपुर के थाना करंडा निवासी डॉ. मंजीत राज ने लडकी के परिजनों से संपर्क किया. उसने खुद को आईएएस अफसर बताया. वर्तमान में अपनी पोस्टिंग पांडिचेरी के लेफ्टिनेंट गवर्नर के ओएसडी के पद पर बताई.

प्रोफाइल में मिले अधिकारियों के साथ फोटो
उसने लड़की की फैमिली को बताया कि उसका एक फ्लैट दिल्ली में भी है. रिटायर्ड शिक्षा अधिकारी और उनकी बेटी ने मंजीत राज का फेसबुक आईडी चेक किया तो उसमें वह कई अधिकारियों और राजनीतिक लोगों के साथ फोटो थे. उसने इंस्टाग्राम पर भी अधिकारियों के साथ फोटो अपलोड कर रखे थे. इसके अलावा संसद भवन समेत अन्य कई स्थानों पर उसके अधिकारियों के साथ फोटो पोस्ट थे.

बनारस में किया कार्यक्रम
परिजनों की पड़ताल के बाद बात आगे बढ़ी. वह डॉ. मंजीत के गांव गए तो वहाँ भी लोगों ने उसे आईएएस अफसर बताया. 9 मई को लड़की वाले बनारस गए. उसने बनारस में भी अपना घर बताया था. होटल में पक्के का कार्यक्रम रखा गया. लड़की का परिवार उस दौरान 6 दिन बनारस में रुका. पक्का करने के दौरान 4.51 लाख रुपए देकर रोका किया गया. 3 जून को सगाई की डेट फिक्स कर दी गई.

पूछताछ करने के बाद परिजनों को हुआ शक
कुछ दिन पूर्व लड़की के परिजनों ने मंजीत राज से उसकी पूर्व की पोस्टिंग और साथी आईएएस अफसरों के बारे में पूछताछ की तो वह टालमटोल करने लगा. उसने परिजनों से 4 करोड़ की डिमांड कर दी. उसके उल्टे-सीधे जबाव और अचानक डिमांड करने से परिजनों को शक हो गया. पिता ने पांच दिन पहले इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से की. मामले में जांच के निर्देश हुए.

सगाई करने आया और पकड़ा गया
संडे को सगाई का कार्यक्रम था. फर्जी आईएएस डॉ. मंजीत राज परिवार और दोस्तो के साथ सगाई करने लड़की के घर पहुंचा. वहां पर पुलिस भी पहुंच गई. पुलिस ने उससे ट्रेनिंग और पोस्टिंग तथा बैचमेट्स अधिकारियें के बारे में पूछना शुरु किया तो वह गुमराह करने लगा. उसने बोला कि वह अभी वेटिंग में है. उल्टे-सीधे जबाव देने से वह फंस गया.

शादी कर बनना चाहता था करोड़पति
पुलिस उसे व उसके पिता, चाचा व चालक को थाने ले आई. यहां पर भी वह कई घंटे तक पुलिस को गुमराह करने का प्रयास करता रहा. पुलिस के सख्ती दिखाने के बाद मंजीत ने सच उगल दिया. उसने बताया कि वह बीएससी है. 2017 में दिल्ली में सिविल सर्विसेज की तैयारी को आया था. मेन्स की परीक्षा भी दी लेकिन सफल नही हुआ. इसके बाद उसने फर्जी आईएएस अफसर बनकर शादी करके करोड़पति बनने का प्लान तैयार किया.