- लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा न लेने वाले जाएंगे सलाखों के पीछे

- एसएसपी को भेज दी गई है कार्रवाई के लिए सूची

आगरा। चुनाव ड्यूटी में लगे अधिकारी व कर्मचारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। लोकतंत्र के महापर्व में भी अपना योगदान देने से बचने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। नतीजा ये है कि सैकड़ों कर्मचारी प्रशिक्षण में नहीं पहुंच रहे हैं। अब ऐसे कर्मचारियों पर लगाम कसने के लिए सीडीओ व प्रभारी अधिकारी कार्मिक रविंद्र कुमार मांदड़ ने सख्ती दिखानी शुरू कर दी है। उन्होंने प्रशिक्षण में भाग न लेने वालों की सूची एसएसपी कार्यालय को उपलब्ध करा दी है। ऐसे कर्मचारियों को घर से उठाने के निर्देश पुलिस को दिए गए हैं।

तो क्या एक को ही वेतन मिलता है

चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारी डीएम और सीडीओ के समक्ष कुछ इस तरह कहते हुए ड्यूटी कटवाने के लिए कह रहे हैं कि साहब पति-पत्नी, दोनों की ड्यूटी लगा दी गई है। इसलिए किसी एक की ड्यूटी काट दी जाए। इसपर डीएम ने पूछा कि क्या दोनों को वेतन मिलता है या फिर एक को। उधर से जवाब आता है कि सर दोनों को, तो फिर डीएम कहते हैं कि दोनों को वेतन मिलता है तो फिर चुनाव ड्यूटी क्यों एक ही करेगा। कोई महिला कर्मचारी अपने बच्चे को छोटा बताते हुए चुनाव डयूटी कटवाने के लिए कहती है तो कोई और अन्य बहाना बनाती है। डीएम ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि विशेष परिस्थिति में ही चुनाव ड्यूटी काटी जा सकती है, अन्यथा ड्यूटी अनिवार्य है।

पैनल बनाया गया है

जो महिला या पुरुष कर्मचारी बीमारी का कारण बताते हुए चुनाव ड्यूटी कटवाने के लिए कह रहे हैं, उनके लिए पांच सदस्यीय डॉक्टरों का पैनल गठित किया गया है, उन्हीं की रिपोर्ट के आधार पर संज्ञान लिया जा रहा है।

पांच दिवसीय है प्रशिक्षण

चुनाव बेहतर ढंग से करा सकें, इसके लिए मतदानकर्मियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 29 मार्च से शुरू हुआ यह प्रशिक्षण मंगलवार दो अप्रैल तक चलेगा।

प्रशिक्षण स्थल

- आगरा कॉलेज, आगरा विधि संकाय

- क्वीन विक्टोरिया ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज हरीपर्वत

इस तरह के लगाए जा रहे हैं बहाने

- साहब मेरी शादी है

- कोई कह रहा है बहन की शादी

- बच्चा एक साल का है

- सांस की बीमारी

- पति-पत्नी दोनों की ड्यूटी लगा दी है

- फैक्चर हो गया है

- मातृ अवकाश

बैंकर्स को दिया मौका

मार्च के चलते जो बैंकर्स पांच दिवसीय प्रशिक्षण में भाग नहीं ले सकें हैं, उनके लिए अलग से तीन अप्रैल की तारीख तय की गई है।