बैंक बंदी और पुलिस की चुनावी व्यस्तता का उठाया लाभ

- आवास विकास कॉलोनी सेक्टर चार स्थित इलाहाबाद बैंक में हुई घटना

- कंप्यूटर सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे और सर्वर उठा ले गए चोर, सेफ में रखे लाखों बचे

आगरा। तीन दिन बैंक की बंदी और चुनाव में पुलिस व्यस्तता का चोरों ने पूरा फायदा उठाया। आवास विकास कॉलोनी स्थित इलाहाबाद बैंक की दीवार काट और ताले तोड़ अंदर प्रवेश कर गए। सेफ तोड़ने में सफल न होने पर वे बैंक के कंप्यूटर सिस्टम, सर्वर और सीसीटीवी कैमरे और मॉनीटर ले गए। जगदीशपुरा थाना क्षेत्र में आवास विकास कॉलोनी सेक्टर चार में आवास विकास परिषद का कार्यालय है। इसी परिसर में इलाहाबाद बैंक है। आवास विकास परिषद का कार्यालय दिसंबर 2018 में सेक्टर 14 में शिफ्ट हो गया। तब से यह बंद है।

तीन दिन अवकाश का मिला लाभ

कार्यालय की बाउंड्रीवाल भी टूट चुकी है। लोकसभा चुनाव के चलते 17 अप्रैल से 19 अप्रैल तक बैंक की छुट्टी थी। इसी दौरान चोरों ने बैंक में सेंध लगा दी। टूटी बाउंड्रीवाल की ओर से अंदर आकर चोराें ने परिषद के कार्यालय के तीन दरवाजों के ताले तोड़ दिए, इसके बाद बैंक की दीवार तक आ गए। फिर दीवार तोड़कर बैंक में पहुंच गए।

बैंक के अंदर से उखाड़े सीसीटीवी

चोरों ने सीसीटीवी कैमरा उखाड़ा, सायरन का तार भी काट दिया। गैस कटर से बैंक के तीन ताले काटकर सेफ तक पहुंच गए। सेफ तोड़ने में सफल न होने पर चोर बैंक में रखे तीन कंप्यूटर सिस्टम, सर्वर, एक सीसीटीवी कैमरा और सीसीटीवी कैमरों का मॉनीटर ले गए।

फोरेंसिक टीम ने लिए नमूने

शनिवार सुबह बैंक की चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी गिरीश कुमारी वहां पहुंचीं तो दीवार कटी देखकर उन्होंने बैंक प्रबंधक को सूचना दी। इसके बाद सीओ लोहामंडी चवन कुमार चावड़ा पहुंचे। फोरेंसिक टीम ने मौके पर नमूने लिए। बैंक प्रबंधक अरुण कुमार शर्मा ने थाना जगदीशपुरा में तहरीर दी है। उन्होंने कैश सुरक्षित होने की बात कही है। सीओ चवन कुमार चावड़ा ने बताया सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिग देखी जा रही है। इसके आधार पर चोरों तक पहुंचने के प्रयास किए जाएंगे।

बैंक की सेफ तोड़ने को चोरों ने चलाया हथौड़ा

डुप्लीकेट चाबी से न खुली तो गैस कटर और हथौड़ा चलाया

-तीन दिन तक फुर्सत से बैंक में धमाचौकड़ी करते रहे चोर

आगरा। तीन तक बैंक की छुट्टी थी। बंद कार्यालय से बैंक में एंट्री का गेट बन गया था। ऐसे में चोरों ने तीन दिन तक कैश चोरी करने को हर औजार आजमाया। मगर, गनीमत रही कि वे सेफ को नहीं तोड़ सके और बैंक का लाखों का कैश बच गया। आवास विकास कॉलोनी सेक्टर चार स्थित इलाहाबाद बैंक में 17 अप्रैल से ही चोरों ने सेंध लगाना शुरू कर दिया था। पहले दिन चोरों ने आवास विकास परिषद कार्यालय के ताले तोड़कर बैंक की दीवार काट ली।

नकाबपोश चोरों ने की वारदात

बैंक के सीसीटीवी कैमरे के मुताबिक, एक चोर की एंट्री 18 अप्रैल की रात 12.21 बजे हुई। चोर नकाबपोश था और हाथों में ग्लब्स पहने था। चोरों को बैंक के अंदर की जानकारी नहीं थी। इसलिए पहले उन्होंने पहले ऑफिस में उस अलमारी को गैस कटर से काटा, जिसमें फाइलें रखी थीं। वहां कुछ नहीं मिला तो चोरों ने दूसरे कमरे में लगे दो ताले काट डाले। इसमें सेफ रखी थी। सेफ के पास डुप्लीकेट चाबी रखी है। इसलिए आशंका है कि चोरों ने पहले इसी चाबी से सेफ खोलने का प्रयास किया। न खुलने पर गैस कटर से काटने की कोशिश की, लेकिन सेफ उससे भी नहीं कटी तो सेफ के हैंडल पर हथौड़ा चला दिया। इससे वह फ्री हो गया। इसलिए सेफ नहीं खुली। इसको खोलने में विफल रहने पर चोरों ने कंप्यूटर समेत अन्य सामान ले गए।

-------

उपभोग्ताओं को उठानी पड़ी परेशानी

बैंक में शाखा प्रबंधक समेत आठ का स्टाफ है। शनिवार को सभी बैंक पहुंचे। मगर, सर्वर समेत कंप्यूटर सिस्टम चोरी हो चुके थे। इसलिए स्टाफ बैंक के बाहर ही बैठा रहा। तीन दिन बंद रहने के बाद शनिवार को बैंक खुली थी। इसलिए भारी संख्या में ग्राहक बैंक से लेनदेन को पहुंचे। मगर, बैंक प्रबंधन ने गेट पर ही आज बैंक में लेनदेन संबंधी कार्य नहीं हो सकेगा का नोटिस लगा दिया गया। कुछ ग्राहक इसे पढ़कर लौट गए तो कुछ पढ़ने के बाद भी बैंक में पहुंचे। कर्मचारियों ने उन्हें सोमवार को आने को कह दिया।

-------

सुरक्षा के नहीं हैं कोई इंतजाम

बैंक आवास विकास कार्यालय के लिए बनी बिल्डिंग मे ही है। यह कार्यालय बंद हो चुका है। इसलिए चोरों के लिए इसमें से सेंध लगाना आसान था। अंदर क्या कर रहे हैं? यह भी किसी को पता न चलेगा। बैंक पर गार्ड आदि की कोई व्यवस्था नहीं है। पुलिस चुनाव में व्यस्त थी। चोरों ने इसी को सही मौका मानते हुए घटना की।

-------

सेफ खोलने बाहर से बुलाए जाएंगे इंजीनियर

बैंक की सेफ गॉदरेज कंपनी की है। चोरी की जानकारी होने पर बैंक प्रबंधक ने शनिवार को कंपनी के अधिकारियों को फोन किया। स्थानीय स्तर से मैकेनिक पहुंचे। उन्होंने सेफ खोलने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। अब इसे खोलने गाजियाबाद से इंजीनियर आएंगे।

पूर्व में भी हो चुकी हैं बैंकों में वारदात

4 नवंबर 2018- पिनाहट में केनरा बैंक की दीवार काटकर चोर अंदर घुस गए। मगर, सेफ के लॉक को नहीं तोड़ सके।

16 फरवरी 2018- एत्माद्दौला क्षेत्र में हाईवे किनारे स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा की पीछे की दीवार चोरों ने काट ली। स्ट्रांग रूम में घुस गए, लेकिन सेफ नहीं तोड़ सके।

6 नवंबर 2017- सिकंदरा क्षेत्र में हाईवे किनारे स्थित यूनियन बैंक की दीवार तोड़कर चोर अंदर घुसे। स्ट्रांग रूम में नहीं घुस सके तो कंप्यूटर लेकर भाग गए।