DEHRADUN: उत्तराखंड सरकार की सबसे बड़ी चुनौती 'पलायन' को अब पुलिस रोकेगी. सर्द मौसम में पहाड़ की पुलिस गांव-कस्बों को गोद लेकर वहां के लोगों से सीधे जुड़ेगी, दूर दराज के क्षेत्र में सुविधाओं से वंचित लोगों का सर्वे कर सरकारी योजनाओं के प्रचार प्रसार के साथ ही उन्हें मुख्यधारा से जोड़ा जाएगा. टयूजडे को सूबे के डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी ने पुलिस ऑफिसर्स को वीडियो कांफ्रेंसिंग पर यह निर्देश जारी किया है. इस कदम को पहाड़ से पलायन रोकने के लिए सरकार की तरफ से पुलिस महकमे को दी गई विशेष जम्मेदारी बताया जा रहा है.

पलायन रोकने को अहम निर्देश:

डीजीपी ने पर्वतीय जिलों के थाना प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि शीतकाल में हर थाना क्षेत्र के गांवों को गोद लेकर ग्रामीणों की आवश्यकतानुसार कार्य करने और तथा सत्यापन अभियान चलाए.

प्लान ऑफ एक्शन

पर्वतीय क्षेत्र के एक-एक गांव के लोगों से पुलिस सीधे जुड़ेगी तो उनकी समस्याओं का पता चलेगा. कौन ग्रामीण किस परेशानी से जूझ रहा है, वह सरकारी योजनाओं के बारे में भी अवयेर है या नहीं. साथ ही पहाड़ी क्षेत्र में अवैध रूप से रह रहे बाहरी लोगों का भी सत्यापन किया जाएगा. पहाड़ी एरिया में टूरिज्म सबसे बड़ा उद्योग है, ऐसे में इस उद्योग को अवैध रूप से रह रहे बाहरी लोगों के हाथ में जा रहा है. प्लान यह है कि पहाड़ में बिना पुलिस सत्यापन कोई बाहरी व्यक्ति न रहे.

डीजी ने दिए निर्देश

-अपराधियों की गिरफ्तारी, अपराधों पर कंट्रोल व अपराधियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई हो.

-सभी एसपी को अधीनस्थ कर्मचारियों से करना होगा बेहतर व्यवहार.

-सभी एसपी को कर्मचारियों की समस्याओं को सुनने व निस्तारण करने को आगे रहना होगा.

-जनपद प्रभारियों को माह में एक बार अपने अधीनस्थ सभी शाखाओं के कार्यो की समीक्षा करनी होगी.

-पर्वतीय जनपदों के प्रभारियों को शीतकाल में वहां स्थित गांवों को गोद लेकर ग्रामीणों की आवश्यकतानुसार कार्य करने के अलावा सत्यापन अभियान चलाना होगा.

- लूट, डकैती, नकबजनी व चोरी की घटनाओं का अध्ययन कर उनकी तत्काल रोक लगाने के निर्देश.

-साइबर क्राइम व आईटी एक्ट से संबंधित मुकदमों का समय से पंजीकरण करने के निर्देश.

-साइबर सैल, एसटीएफ, साइबर पुलिस थाना की मदद लें.

-जिलों में सांप्रदायिक तनाव फैलाने वाले व्यक्तियों को चिन्हित किया जाए.

-बढ़ते नशे की प्रवृत्ति पर सख्ती से रोक लगे.

-थानों में पडे़ लंबित अभियोगों, शिकायतों का भी हो तत्काल निस्तारण.

एडीजी का क्या है कहना

पहाड़ी क्षेत्र में अभी ऑफ सीजन है, ऐसे में पुलिस को सोश्यल वर्क करने के डायरेक्शन दिए गए हैं. यह कदम पर्वतीय क्षेत्र के लोगों में अधिक विश्वास कायम कर,पलायन रोकने में मददगार होगा.

अशोक कुमार,एडीजी एल एंड ओ.