- कासिफ खान ने नौशाद के ऊपर दर्ज करा रखे हैं 9 मुकदमें

- जमीनी विवाद व पैसों की लेन-देन में हुई दोस्तों में दुश्मनी

- खुलासे के करीब पहुंची पुलिस, शूटरों की तलाश जारी

कासिफ खान के ऊपर जानलेवा हमला कराया गया
Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: डॉ. कफील खान के भाई कासिफ खान को बदमाशों द्वारा गोली मारे जाने के बाद अब तक की जांच में जमीनी विवाद के साथ पैसों के लेन-देन की बात सामने आई है. कासिफ खान की दुश्मनी उनके दोस्त नौशाद आलम से चल रही थी. वहीं, एक अन्य साथी समीम से भी कासिफ के संबंध बेहद खराब हो चुके हैं. इसे लेकर डॉ. कफील के परिवार ने राजघाट इलाके के तुर्कमानपुर के नौशाद आलम के ऊपर शहर के विभिन्न थानों में 9 आपराधिक मुकदमें दर्ज करा रखे हैं. जबकि कोतवाली इलाके के हट्ठी माता मंदिर के पास के रहने वाले समीम ने कासिफ खान के खिलाफ भी कोतवाली थाने में केस दर्ज करा रखा है. ऐसे में इन तीनों की दोस्ती अब जमीनी विवाद और पैसों की लेन-देन में दुश्मनी में तब्दील हो चुकी है. पुलिस को आशंका है कि इसी दुश्मनी को लेकर कासिफ खान के ऊपर जानलेवा हमला कराया गया.

कासिफ की वजह से हिस्ट्रीशीटर बना नौशाद
अब तक की पुलिस जांच में जो बातें सामने आई हैं, उसके मुताबिक डॉ. कफील खान के भाई कासिफ जमील, नौशाद और शमीम अच्छे दोस्त थे. तीनों मिलकर ही साथ में प्रापर्टी सहित अन्य काम करते थे. इस बीच कुछ साल पहले जमीनी विवाद और पैसों की लेन-देन में तीनों की दोस्ती में दरार आ गया. तभी से इनकी दोस्ती दुश्मनी में तब्दील होने लगी. कासिफ खान ने जहां ताबड़तोड़ नौशाद के ऊपर कोतवाली, राजघाट और कैंट थाने में मारपीट, फर्जीवाड़ा, हत्या का प्रयास जैसे संगीन धाराओं में केस दर्ज करा रखे हैं. वहीं, वर्ष 2016 में राजघाट पुलिस ने नौशाद के ऊपर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई भी की है. ऐसे में कासिफ की वजह से नौशाद पुलिस की लिस्ट में हिस्ट्रीशीटर बन गया. वहीं, सूत्रों की माने तो इसी दुश्मनी में कासिफ खान के ऊपर जानलेवा हमला हुआ. बहरहाल पुलिस व एसटीएफ जांच में लगी है.

शूटरों की तलाश तेज
सूत्रों के मुताबिक पुलिस डॉ. कफील खान के भाई पर फायरिंग के मामले में खुलासे के करीब पहुंच चुकी है. पुलिस इस मामले में नौशाद सहित कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी कर रही है. वहीं, फायरिंग करने वाले शूटरों की तलाश जारी है. उम्मीद है कि जल्द ही हमला करने वाले बदमाशों को गिरफ्तार कर पुलिस इस मामले का पर्दाफाश करेगी.

सटीक मुखबिरी पर हुई घटना
वहीं, पुलिस गोरखनाथ इलाके में स्थित जूते की दुकान की सीसीटीवी फुटेज भी खंगाली, जहां वारदात से पहले कासिफ खान जूता खरीदने गए थे. लेकिन हैरानी वाली बात यह है कि फुटेज में स्कूटी सवार बदमाश कहीं भी नजर नहीं आए. ऐसे में पुलिस का मानना है कि कासिफ पर हमला करने के लिए सटीक मुखबिरी की गई थी. इसके बाद गोरखनाथ पुल से उतरते ही सुनसान गली में उन्हें बदमाशों ने गोली मारी.

मामले की कई बिंदुओं पर पड़ताल जारी है. अब तक की जांच में कुछ जमीनी व पैसों के लेन-देन के विवाद सामने आ रहे हैं. जिसकी जांच की जा रही है. जल्द ही बदमाशों को गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश कर दिया जाएगा.
शलभ माथुर, एसएसपी