आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा वाराणसी में थी तैनाती, वर्तमान में सस्पेंड चल रहे थे

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: आर्थिक अपराध अनुसंधान शाखा वाराणसी में दरोगा के पद से सस्पेंड होने के बाद डिप्रेशन में चल रहे दरोगा सतीश चंद्र शुक्ला ने शनिवार की भोर में नैनी ब्रिज से यमुना में छलांग लगा दी। उन्हें खोजते हुए पहुंचे परिजनों ने पुल पर स्लीपर देखकर शक जताया। इस पर एक्टिव हुई पुलिस ने बॉडी को नदी से खोज निकाला।

सस्पेंड होने के बाद थे टेंशन में

कीडगंज थाना क्षेत्र के मधवापुर निवासी सतीश चंद्र शुक्ल की वर्तमान समय में वाराणसी में तैनाती थी। परिजन बताते हैं कि इन दिनों वह सस्पेंड चल रहे थे। सस्पेंड क्यों किया गया? यह वे नहीं बता सके। परिजनों के अनुसार सस्पेंशन को लेकर वह तनाव में थे। शनिवार की भोर में तीन बजे के करीब वह घर से निकल गये। काफी देर तक लौट कर नहीं आए तो परिवारवाले उनकी तलाश में निकले। पुल पर उनका स्लीपर व गमछा पड़ा हुआ था। सुसाइड की आशंका पर परिजनों ने सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने गोताखोरों को पानी में उतार दिया तो बॉडी बरामद हो गयी। पुलिस ने बॉडी पोस्टमार्टम के लिए भेज दी है। सतीशचंद्र चार भाइयों में दूसरे नंबर पर थे। उनकी मौत से पत्‍‌नी ममता, दो बेटों और एक बेटी की आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे।