- बेतरतीब खड़े वाहनों पर रहेगी ट्रैफिक पुलिस की नजर

- ऑटो एसोसिएशन के साथ बैठक करेंगे एसपी ट्रैफिक

आगरा. चौराहों पर ऑटो चालकों की मनमानी और सड़कों पर सिटी बसों का कब्जा. शहर के अधिकतर हिस्सों में ये जहां जाम का कारण बनता है, वहीं हादसों की वजह भी. इससे शहरवासियों को छुटकारा दिलाने के लिए एसपी ट्रैफिक पहल करने जा रहे हैं. इसके तहत रोडवेज अधिकारियों, स्कूल प्रबंधकों, ऑटो एसोसिएशन के साथ बैठक की जाएगी. इसमें जाम की समस्या को दूर करने के उपायों पर मंथन किया जाएगा.

एसोसिएशन के साथ होगी बैठक

एसपी ट्रैफिक प्रशांत कुमार के मुताबिक सिटी में कुछ चौराहों पर स्थिति खराब है. चालक अपनी मनमानी करते हैं, जिसके चलते लोगों को जाम से जूझना पड़ता है. एसपी ट्रैफिक के मुताबिक जल्द ही ऑटो एसोसिएशन के साथ बैठक कर ऑटो की स्थिति को व्यवस्थित किया जाएगा.

ध्वस्त होने लगी व्यवस्था

एसएसपी अमित पाठक द्वारा शुरुआती कार्रवाई में जब सिस्टम से लोग चले तो लगा कि चौराहे जाम से मुक्त हो गए हैं. लेकिन ये व्यवस्था धीरे-धीरे ध्वस्त होती जा रही है. वाहन चालकों ने फिर अपनी मनमानी शुरू कर दी है.

दो मिनट के रास्ते में दस मिनट

रामबाग चौराहे पर दिनभर जाम के हालात बने रहते हैं. चौराहा पार करने में लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. यहां पर ऑटो आड़े-तिरछे खड़े हो जाते हैं. सवारी भी बीच में जाकर ऑटो में बैठती हैं, जिससे चौराहे पर रश हो जाता है और जाम लग जाता है.

शॉर्टकट के चलते लगती है कतार

रामबाग चौराहे पर कई बार जाम लगने से वाहन चालक शॉर्टकट जाने का प्रयास करते हैं. लोग नरायच से कट लेते हुए ट्रांसयमुना कॉलोनी की ओर जाते हैं. इससे यहां भी जाम के हालात बन जाते हैं. ऑटो की गलती का खामियाजा सभी को भुगतना पड़ता है.

बस भी जाम लगाने में कारक

शहर में चलने वाली सिटी व रोडवेज बसों से भी जाम की स्थिति बनती है. बसे अपने स्टॉपेज पर खड़े न होकर सड़क पर ही खड़ी हो जाती हैं, जिससे जाम लग जाता है. वॉटर व‌र्क्स रामबाग, एमजी रोड पर बसें इसी तरह से खड़ी देखी जा सकती है.

स्कूल के साथ भी होगी बैठक

सेंट पैट्रिक की छात्रा गार्गी शर्मा की मौत से पूरा शहर गम में डूब गया. नगर निगम के ट्रक ने छात्रा की जान ले ली. इसके बाद से सेंट पैट्रिक रोड पर स्कूल की छुट्टी के समय पुलिस का पहरा रहता है. लेकिन, फिर भी कई भारी वाहन वहां पर आ जाते हैं. इसके अलावा कई स्कूल के बच्चों को लाने ले जाने वाली बसें भी ऑन रोड खड़ी हो जाती हैं, जिससे जाम लगता है. कभी भी हादसा हो सकता है.

एसपी ट्रैफिक के मुताबिक स्कूलों के बाहर बसों के चलते जाम न लगे इसके लिए स्कूल प्रबंधकों की बैठक की जाएगी. स्कूल में भी पार्किंग व्यवस्था होती. इसके बाद भी वह वाहन बाहर खड़े रहते हैं.