- पोलियो प्रतिरक्षण अभियान पर लगा प्रश्चचिन्ह, विभाग में हड़कंप

- बच्चे का होगा स्टूल टेस्ट, सीएमओ ने डब्ल्यूएचओ में दर्ज कराया केस

KAUSHAMBI(24Nov): राष्ट्रीय पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान की सफलता पर सवालिया निशान लग गया है. सराय अकिल के पुरखास गांव के एक आठ माह के बच्चे में पोलियो के लक्षण दिखे हैं. इसकी जानकारी मिलते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. सीएमओ के निर्देश पर डाक्टरों की टीम ने गांव पहुंच कर बच्चे की जांच की. लक्षण दिखने पर सीएमओ ने डब्ल्यूएचओ में केस दर्ज करा दिया है. साथ ही स्टूल टेस्ट के लिए सैंपल भेज दिया है.

दो दिन पहले खराब हुई तबीयत

सरायअकिल के पुरखास निवासी मो. हासिम के आठ माह के पुत्र मो. समीर की दो दिन पहले तबीयत खराब हो गई. इसके बाद उसका एक हाथ और एक पैर झूल गया. दोनों काम नहीं कर रहे हैं. हाथ व पैर कमजोर हो गए हैं. इसकी जानकारी मनौरी के चिकित्सक डा. एचएल मिश्र ने स्वास्थ्य विभाग को दी तो खलबली मच गई. सीएमओ राजकुमार मिश्र ने मामले को गंभीरता से लेते हुए डाक्टरों की टीम भेजी. एएनएम पुष्पलता व चिकित्सक राजेश व अन्य लोग पहुंचे. मो. हासिम से मिले, इसके बाद मो. समीर का परीक्षण किया. समीर में पल्स पोलियो के लक्षण दिखे. इसकी सूचना डाक्टरों ने सीएमओ राजकुमार मिश्र को दी. सीएमओ ने इसकी जानकारी डब्लयूएचओ को दी, साथ ही केस भी रजिस्टर्ड कराया. सीएमओ ने बताया कि लक्षण दिखे हैं. बच्चे का स्टूल टेस्ट कराया जा रहा है. जांच रिपोर्ट आने के बाद ही सही जानकारी होगी कि बच्चे को पोलियो हुआ है या नहीं. अभी इस मामले में कुछ कहना जल्दबाजी होगी.