-अब वेब पोर्टल पर होगी पॉल्यूशन अंडर सर्टिफिकेट (पीयूसी) की रिपोर्ट

-गाडि़यों से फैलते पॉल्यूशन पर लगेगी लगाम, पीयूसी रिपोर्ट न होने पर लगेगा जुर्माना

ङ्कन्क्त्रन्हृन्स्ढ्ढ

व‌र्ल्ड के तीसरे सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल बनारस में एयर पॉल्यूशन का लेवल कम होने वाला है. गाडि़यों से निकलने वाले जहरीले धुएं पर रोकथाम को लेकर परिवहन विभाग ने प्लान तैयार कर लिया है. विभाग शहर के हर गाड़ी का पॉल्यूशन अंडर सर्टिफिकेट (पीयूसी) ऑनलाइन करने जा रहा है. इसके साथ ही सड़कों पर बेरोक टोक पॉल्यूशन फैला रही गाडि़यों के पॉल्यूशन की जांच भी कैमरे की निगरानी में होगी. यही नहीं गाडि़यों के पॉल्यूशन की जांच करने वालों को हर गाड़ी की डिटेल ऑनलाइन देनी होगी. इसके साथ ही वाहन मालिक को पीयूसी की एक कॉपी भी देना होगा.

मंत्रालय ने दिया है निर्देश

अधिकारियों की मानें तो बीते दिनों एयर पॉल्यूशन के मामले में इस शहर की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है. बनारस समेत प्रदेश के कई महानगर व शहरों में पॉल्यूशन का लेवल बढ़ता जा रहा है. बनारस में कई बार पॉल्यूशन हाईएस्ट लेवल पर पहुंच चुका है. कुछ माह पूर्व डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट में इसे विश्व का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर होने का तमगा भी लगाया गया था. ऐसे में केंद्रीय परिहवन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने परिवहन विभाग को गाडि़यों से निकलने वाले जहरीले धुएं पर रोक लगाने का निर्देश जारी कि या है. जिससे इसका लेवल कम किया जा सके.

डेवलप किया अलग सॉफ्टवेयर

केंद्र सरकार ने इसके लिए अलग सॉफ्टवेयर तैयार करने के साथ ऑनलाइन निगरानी की भी व्यवस्था करने को कहा है. सॉफ्टवेयर का काम लगभग फाइनल स्टेज पर है. अधिकारियों की मानें तो जांच केंद्रों को ऑनलाइन किए जाने को लेकर तैयारी चल रही है. इस व्यवस्था के तहत जैसे ही शहर में किसी भी जगह गाड़ी के लिए पीयूसी जारी किया जाता है, वैसे ही उसकी सारी डिटेल ऑटोमेटिक ऑनलाइन आ जाएगी. इसके बाद पोर्टल पर पीयूसी जारी करने की डेट, वैधता, गाड़ी का नंबर और मालिक का नाम, पता सब ऑनलाइन शो होने लगेगा.

ऑनलाइन होगी सारी डिटेल

पीयूसी की सभी डिटेल ऑनलाइन सुरक्षित की जाएगी. इससे कोई भी वाहन चालक फर्जी पीयूसी का प्रयोग नहीं कर सकेगा. गाडि़यों की ऑनलाइन डिटेल होने से चेकिंग के दौरान उसकी सारी डिटेल सामने आ जाएगी. यही नहीं बनारस समेत प्रदेश के कौन से शहर में कितने पीयूसी सेंटर्स बने हैं और उनमें कितने काम कर रहे हैं या नहीं इन सबकी जानकारी भी परिवहन विभाग में ऑनलाइन होगी. यदि किसी सेंटर में किसी तरह की खराबी आती है, तो उसे ऑनलाइन डिटेल देनी होगी.

लिया जाएगा एक्शन

वाहनों के प्रदूषण की जांच के लिए परिवहन विभाग द्वारा चलाए जाने वाले चेकिंग अभियान के दौरान जिसके पास पीयूसी नहीं होगा, उस पर 1000 की पेनाल्टी लगाई जाएगी.

एक नजर

सेंटर व जांच का चार्ज

12

प्रदूषण जांच केन्द्र हैं बनारस में

3 से 4

सेंटर ही वर्किंग में हैं

30 रुपए

दो पहिया वाहन के प्रदूषण जांच का

60 रुपए

चार पहिया और इससे ऊपर प्रति वाहन

पीयूसी जांच की व्यवस्था ऑनलाइन होने को लेकर सूचना मिली है. नई व्यवस्था के तहत हर वाहन के प्रदूषण लेवल की जानकारी ऑनलाइन होगी. इससे यह भी पता चलेगा कि किसी गाड़ी की पीयूसी कब खत्म हो रही है, या है कि नहीं.

आरपी द्विवेदी, आरटीओ, वाराणसी