-1 से 30 सितंबर तक कुपोषण घटाने के लिए चलेगा अभियान

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: किशोरियों एवं महिलाओं में कुपोषण दर कम करने को लेकर 1 से 30 सितम्बर तक राज्यव्यापी पोषण अभियान चलेगा. यह अभियान प्रखंड से लेकर जिला मुख्यालय तक चलेगा. इसके तहत बच्चों का प्रत्येक आंगनबाड़ी केंद्र पर अन्नप्राशन सुनिश्चित करवाया जाएगा. इसके अलावा बच्चों की दी जाने वाली पोषाहार पर भी नजर रखी जाएगी. इस संबंध में समाज कल्याण विभाग के प्रधान सचिव अतुल प्रसाद ने बुधवार को सभी जिलाधिकारियों को पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है.

प्रधान सचिव के मुताबिक पोषण अभियान में शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, पंचायत राज विभाग एवं ग्रामीण विकास विभाग की भी महत्वपूर्ण भागीदारी होगी. माह भर चलने वाले इस अभियान को सफल बनाने के लिए संबंधित विभागों के प्रधान सचिव के स्तर से भी सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी और सिविल सर्जन को निर्देश जारी किया है. इस अभियान में आशा कार्यकर्ताओं के अलावा एएनएम को भी लगाया गया है जो सभी 600 सरकारी अस्पतालों व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में बच्चों, किशोरियों एवं महिलाओं के बीच स्वास्थ्य जांच, पोषाहार, टीकाकरण और जरूरी दवाएं उपल?ध कराने को लेकर कार्य करेंगे.

पोषण अभियान को मिलकर बनाएं जन आंदोलन

वहीं दूसरी ओर आइसीडीएस के निदेशक आरएसपी दफ्तुआर ने जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) और बाल विकास परियोजना पदाधिकारी (सीडीपीओ) को निर्देश देते हुए कहा है कि पोषण अभियान को जन आन्दोलन का स्वरूप दिया जाएगा और इसमें जनभागीदारी भी सुनिश्चित की जाए. बुधवार को निदेशक ने बताया कि जिला मुख्यालयों एवं प्रखंडों में पोषण मेला, नुक्कड़ नाटक, और पोस्टर प्रदर्शनी समेत अन्य कार्यक्रम होंगे. सभी 91 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों पर पोषण अभियान के तहत हेल्थ चेकअप एवं जागरुकता शिविर का आयोजन होगा. शिशु एवं मातृ सुरक्षा, कुपोषण मुक्ति, स्वच्छता, बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने और महिलाओं की साक्षरता जैसे गतिविधियों का संचालन किया जाएगा.

किशोरी सखी रखेंगी महिलाओं का ख्याल

पोषण अभियान में पोषण सखी एवं किशोरी सखी महिलाओं और किशोरियों के स्वास्थ्य का ख्याल रखेंगी. जीविका दीदियों की मदद से प्रखंडों में सभी घरों तक पोषण के प्रति जागरुकता अभियान को पहुंचाने का लक्ष्य है. कुपोषित किशोरियों, नवविवाहिताओं, गर्भवती और धात्री महिलाओं पर विशेष ध्यान रखा जाएगा.