- 24 घंटे की जगह मिल रही 18 घंटे बिजली बिल भी दे रहे अधिक

BAREILLY:

शहर के दो बड़े इलाके कर्मचारी नगर और गांधी नगर के लोगों के साथ बिजली विभाग बड़ा छल कर रहा है. उनसे बिजली बिल तो शहर का वसूल कर रहा है और सप्लाई गांव की दे रहा है. इस बात को लेकर पब्लिक में बेहद नाराजगी है. लोगों ने इस बात की शिकायत आईजीआरएस यानि सीएम पोर्टल पर भी की थी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. कंज्यूमर्स का कहना है कि 24 घंटे की बजाय 18 घंटे हमें क्यों बिजली मिल रही है. यह सरासर धोखा है. पहले तो उन लोगों को शहर से जोड़ा जाए. साथ ही, शहर के नाम पर जो भी सरचार्ज वसूल किए गए हैं, उसे बिजली विभाग ब्याज समेत वापस करे.

सीमा विस्तार में भूले मानक

आबादी बढ़ने के साथ ही बिजली विभाग भी अपनी सीमा का विस्तार कर रहा है. लेकिन इस विस्तार में मानक का ख्याल भूल जा रहा है. अधिकारियों की लापरवाही की सजा कर्मचारी नगर और गांधीपुरम के लोग भुगत रहे हैं. इन दोनों एरिया के लोग शहर के हिसाब से 150 यूनिट तक 4.90 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली बिल जमा कर रहे हैं. साथ ही रेगुलेटरी सरचार्ज, सिटी ड्यूटी चार्ज अलग से दे रहे है. इस लिहाज से लोगों को 24 घंटे बिजली मिली चाहिए, लेकिन ग्रामीण फीडर से सप्लाई होने के कारण 18 घंटे भी बिजली मिलना मुश्किल है. वह भी फाल्ट इतना ही पूछिए मत.

विधायक से की शिकायत

अंधाधुंध बिजली कटौती से परेशान स्थानीय लोगों ने शहर विधायक डॉ. अरुण कुमार से भी इस बात की शिकायत की, लेकिन कोई खास फायदा नहीं हुआ. बिजली विभाग के अधिकारी की लापरवाही जारी है. लिहाजा, लोगों ने इस बात की शिकायत सीएम पोर्टल पर की है. ताकि, शहर की बिजली मिल सके. दरअसल, शासन ने तहसील, ब्लॉक में बिजली सप्लाई का समय फिक्स कर रखा है. उसकी के हिसाब से बिजली सप्लाई हो रही है. पर सवाल यह उठता है कि जब लोग शहर के हिसाब से बिजली बिल का भुगतान कर रहे है, तो उन्हें ग्रामीण की बिजली क्यों दी जा रही है. या फिर वह बेवजह बिजली कटौती क्यों झेले.

शहर एक नजर

- 1 किलोवॉट बिजली कनेक्शन का.

- 100 रुपए फिक्स चार्ज.

- 7.50 परसेंट सिटी ड्यूटी चार्ज.

- 5.22 परसेंट रेगुलेटरी सरचार्ज.

- 4.90 रुपए प्रति यूनिट.

- 24 घंटे बिजली मिल रही है.

ग्रामीण एक नजर

- 1 किलोवॉट बिजली कनेक्शन का.

- 80 रुपए फिक्स चार्ज.

- 2 परसेंट सरचार्ज.

- 3.50 रुपए प्रति यूनिट.

- 18 घंटे बिजली मिल रही है.

शहर के उपभोक्ताओं को शहर के ही फीडर से बिजली की सप्लाई हो रही है. कही ऐसा हो रहा है, तो अभी दिखवाता हूं. ग्रामीण फीडर से सप्लाई है तो शहर से की जाएगी.

एनके मिश्रा, एसई, बिजली विभाग

कर्मचारी नगर में ग्रामीण फीडर से बिजली सप्लाई की जा रही है. दो दिन से ठीक बिजली मिल रही है. नहीं तो इससे पहले दिनभर में इतना फाल्ट होता था कि मन खीज जाता था.

ओवैस खान

जब हम शहर के हिसाब से बिल दे रहे हैं, तो हमें ग्रामीण क्षेत्र की बिजली क्यों मिल रही है. इस बात की विभाग के लोगों से शिकायत की गई थी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

अनिल कुमार श्रीवास्तव