मनाली (आर्इएएनएस)। बर्फबारी आैर खराब मौसम की वजह से कर्इ-कर्इ महीनों तक दुनिया से कटी रहने वाली दुर्गम लाहौल घाटी की आज सूरत बदल गर्इ है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा जून 2000 को हिमाचल में रोहतांग सुरंग की नींव रखी गर्इ थी। इससे यहां के बाशिंदों को एक सुकून दिखा था कि इसके निर्माण से यहां जन जीवन सहज हो जाएगा। लाहौल-स्पीति में आर्थिक क्रांति के नए युग का आगाज होने के साथ ही यहां पर्यटन को आैर ज्यादा बढ़ावा मिलेगा। लगभग 18 साल बाद आज जब यह सुरंग बनकर तैयार हुर्इ आैर अगले साल मर्इ-जून में इसका शुभारंभ होने वाला है तो अटल जी इस दुनिया को अलविदा कह गए।

अटल जी से उनकी अच्छी बात होती

एेसे में स्थानीय निवासी बेहद दुखी हैं। उनका कहना है कि दुनिया के लिए यह सुरंग महज एक सुरंग होगी लेकिन अटल जी ने इसे दोस्ती की सुरंग बनाया था। इस सुरंग के पीछे की एक दिलचस्प कहानी भी स्थानीय नागरिकों के बीच कही जाती हैं। कहा जाता है कि अटल बिहारी ने रोहतांग सुरंग अपने अजीज दोस्त स्वर्गीय टशी के कहने पर बनवार्इ थी।इस संबंध में स्वर्गीय टशी के बेटे रामदेव कहते हैं कि उनके पिता की अटल जी से मुलाकात आरएसएस के एक प्रशिक्षण शिविर के दौरान गुजरात के बडोदरा में 1942 में हुर्इ थी। उस प्रशिक्षण के दौरान अकेले बुद्धिस्ट टशी दवा ही थे। अटल जी से उनकी अच्छी बात होती थी।

रोहतांग दर्रा पांच से छह महीने बंद रहता
प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के दिल में टशी दवा की एक खास जगह बन गर्इ थी। एेसे में जब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री बने आैर टशी ने वाजपेयी से दिल्ली जा कर कई बार मुलाकात की। इस दौरान अटल जी बेहद सहज भाव से उनसे मिलते थे। अपनी इन्हीं मुलाकातों में टशी दवा ने अटल जी के सामने दुर्गम लाहौल घाटी के बारे में चर्चा की थी। इसके बाद ही अटल जी ने इसकी नींव रखी थी। यह सुरंग मनाली से लेह लद्दाख और लाहौल-स्पीति से जोड़ने वाली है। यह हिमाचल प्रदेश में 13050 फीट ऊंचे रोहतांग दर्रे पर बनी है। बता दें कि बर्फबारी के कारण करीब रोहतांग दर्रा पांच से छह महीने बंद रहता है।

अटल की बदौलत ही आज युवाआें के फिंगर टिप पर है दुनिया, वाजपेयी के वो महत्वपूर्ण फैसले

अनंत में विलीन हुए भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी, बेटी ने दी मुखाग्नि

National News inextlive from India News Desk