-मैरी लूकस स्कूल में पांच दिनों से ठप्प है पढ़ाई

-स्कूल प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ एकजुट हुए टीचर्स व कर्मचारी

फैक्ट फाइल

03 मांगों को लेकर स्ट्राइक पर हैं स्कूल कर्मचारी

05 दिन से लगातार चल रही है स्ट्राइक

84 है स्कूल में कुल टीचिंग, नॉन टीचिंग व फोर्थ क्लास मिलाकर स्टाफ की संख्या.

813 स्टूडेंट्स की पढ़ाई पर पड़ रहा असर

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: बच्चे स्कूल जा रहे हैं. टाइम से क्लासेस भी लग रही है. लेकिन स्कूल में पढ़ाई नहीं हो रही है. ये हाल सिटी के मैरी लूकस स्कूल का है. जहां स्कूल प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ टीचर्स व कर्मचारी ने पिछले पांच दिनों से स्ट्राइक कर रखी है. इसका असर बच्चों की पढ़ाई पर पड़ रहा है. इसके बावजूद स्कूल प्रबंधन की तरफ से स्ट्राइक खत्म करने के लिए फिलहाल कोई खास कवायद नहीं दिख रही है. टीचर्स और नॉन टीचिंग स्टॉफ का कहना है कि अगर उनकी मांगे शीघ्र पूरी नहीं हुई तो सड़कों पर उतरकर स्कूल प्रबंधन का विरोध करेंगे.

तीन मांगों को लेकर चल रही स्ट्राइक

स्कूल प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ स्ट्राइक पर गए टीचर नील ल्यूक का कहना है कि स्कूल प्रबंधन की तरफ से नियमों को ताक पर रखकर पांच साल पहले रिटायर हुई प्रिंसिपल डॉ. एलआर एन्थोनी और एकाउंटेंट वीएम भट्टाचार्य को अभी तक नहीं हटाया गया. स्कूल में रिटायरमेंट की एज 62 वर्ष है. उसके बाद भी मनमाने ढंग से टीचर्स को समय से रिटायर किया जा रहा है, जबकि प्रिंसिपल और एकाउंटेंट को नहीं हटाया गया है. वहीं टीचिंग स्टाफ आई.ए् सिद्दीकी बताते है कि पांच साल से किसी भी कर्मचारी की सैलरी नहीं बढ़ाई गई है. जबकि टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टॉफ लगातार सैलरी रिवीजन की मांग कर रहा है.

तो करेंगे कार्य बहिष्कार

प्रिंसिपल को हटाने की मांग पर बिशप पीटर बलदेव का कहना है कि जब तक कोई प्रिंसिपल नहीं मिलते, डॉ. एलआर एन्थोनी अपने पद पर बनी रहेंगी. पांच दिनों से स्कूल में चल रहे स्ट्राइक को खत्म करने के लिए सीओ कर्नलगंज ने समझौता कराने की बात कही थी. लेकिन अभी तक स्कूल प्रबंधन की तरफ से कोई फैसला नहीं हुआ. अगर मंगलवार तक मांगे नहीं मानी गई तो टीचर्स क्लास का भी बहिष्कार करेंगे.

वर्जन

स्कूल में रिटायर होने की उम्र 62 साल है. सिर्फ प्रिंसिपल और एकाउंटेंट के लिए नियम बदलना गलत है. जबकि पिछले पांच सालों में जितने भी टीचर्स 62 साल के हुए, उनको रिटायर कर दिया गया.

-नील ल्यूक

सभी के लिए एक नियम होना चाहिए. अपने चहेतों को मनमाने ढंग से रिटायर होने के बाद भी अभी तक नहीं हटाना गलत है.

-आई.ए. सिद्दीकी

तीनों डिमांड पूरा करने के लिए स्कूल प्रबंधन को मंगलवार तक का समय दिया गया है. अगर मांगें पूरी नहीं हुई तो टीचर्स क्लासेस का भी बहिष्कार करेंगे.

-समीर मोजेज

पिछले पांच सालों से स्कूल में किसी भी स्टाफ की सैलरी में इजाफा नहीं हुआ है. जबकि टीचर्स और नॉन टीचिंग स्टाफ लगातार सैलरी रिविजन की मांग कर रहे है.

-ए खान