हर साल जरा सी बारिश में जलमग्न रहता है मुख्य मार्ग

बेअसर साबित होते हैं नगर निगम के सारे दावे, जलभराव से होती है परेशानी

Meerut. बरसात आने में भले ही अभी दो माह का समय हो, लेकिन नगर निगम की तैयारियां शुरु हो चुकी है. लेकिन इन तैयारियों के बावजूद शहर के कई ऐसे पाइंट हैं जो जरा सी बारिश में जलमग्न हो जाते हैं और इन इलाकों में जल निकासी के लिए निगम के पास भी कोई प्लान नही है. निगम की तैयारियां बस नालों और सीवर लाइन की सफाई तक सीमित हैं.

जलभराव आम समस्या

हर साल प्रह्ललादनगर से गोलाकुआं चौराहे तक की मुख्य सड़क बारिश के दौरान जलमग्न रहती है बारिश यदि कम है तो पानी कुछ घंटों में उतर जाता है लेकिन यदि तेज और घंटों तक हुई तो 24 घंटे से अधिक समय तक सड़क जलमग्न रहती है. इस इलाके में छोटी नालियां के साथ साथ यह इलाका निचली जगह पर और नाले से दूर होने के कारण हर साल इस समस्या से जूझता है. बरसात में नालियों का गंदा पानी सड़क पर आ जाता है.

नालियों की सफाई से मिलेगी निजात

निगम का दावा है कि इस इलाके को जलभराव की समस्या से दूर करने के लिए सीवर लाइन, नालियों और सबसे नजदीक के ओडियन नाले की सफाई का काम किया जा रहा है. यहां नालियों का पानी सीधा ओडियन नाले में जाता है ऐसे में इस नाले की सफाई से जलभराव से जल्दी निजात मिलेगी.

नही हुई सीवर की सफाई

निगम भले ही सौ प्रतिशत सफाई का दावा कर रहा हो लेकिन हकीकत यह है कि इस क्षेत्र में केवल ऊपरी तौर पर नालियों की सफाई होती है. क्षेत्र वासियों की मानें तो पिछले 8 से 10 साल से क्षेत्र में सीवर लाइन की सफाई तो दूर ढक्कन तक खोले नही गए हैं. जबकि इस क्षेत्र में रोजाना हजारों टन कूड़ा निकलता है.

शहर के सभी इलाकों में जलनिकासी के प्रमुख नालों की सफाई प्राथमिकता के स्तर पर कराई जा रही है. प्रह्ललादनगर और गोलाकुआं मे भी हर बरसात से पहले कई बार सफाई होती है.

डॉ. कुंवर सेन, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

गोलाकुआं और प्रह्ललादनगर में पिछले दस साल से सीवर लाइन की सफाई नही हुई है. निगम ऊपरी सफाई करके खानापूर्ति कर देता है. जरुरत सीवर लाइन की सफाई की है.

मो. शाहिद, गोलाकुआं रामनगर व्यापार संघ अध्यक्ष

गोलाकुआं से लिसाड़ी गेट थाने तक पूरी रोड जरा सी बारिश में जलमग्न हो जाती है. यहां नालियों का गंदा पानी सड़क पर बहता है इससे आमजन का निकलना दूभर रहता है.

सरफराज

प्रह्ललादनगर के सामने मुख्य रोड पर मस्जिद है इसके बावजूद भी निगम का ध्यान इस मार्ग पर नही है. रोजाना सफाई तो दूर सप्ताह भर में निगम सफाई नही करता है.

इरफान