- पिता के नालायक कहने पर छोटे भाई से लिया बदला

- पुलिस ने आरोपी बड़े भाई को किया गिरफ्तार

- 15 अगस्त को मिला था मासूम का शव, गला दबाकर की गई थी हत्या

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : मडि़यांव इलाके में सात साल के मासूम की गला दबाकर हत्या कर दी गई. मासूम की हत्या उसके बड़े भाई ने की थी. पकड़ा गया आरोपी युवक बीएससी का छात्र है. उसने प्रापर्टी के लालच में आकर अपने छोटे भाई की हत्या कर दी थी. पिता के नालायक कहने पर उसने घटना को अंजाम दिया था. पुलिस ने आरोपी भाई को गिरफ्तार कर लिया.

पानी से भरे प्लाट में मिला था शव

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि मूलरूप से सीतापुर निवासी विजेंद्र कुमार परिवार के साथ फैजुल्लागंज में किराये के मकान में रहते हैं. उसका छोटा बेटा यशू सिंह (7) प्राइवेट स्कूल में कक्षा दो का छात्र था. 14 अगस्त की शाम यशू रहस्यमय हालात में गायब हो गया था. परिवार वालों ने उसकी काफी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला. इसके बाद उन्होंने मडि़यांव थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी. दूसरे दिन 15 अगस्त को दोपहर मासूम का शव घर के पास यासीन बाग में एक पानी से भरे प्लाट में पड़ा मिला. परिजनों ने उसकी हत्या की आशंका जताई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि मासूम यशू की गला दबाकर हत्या की गई थी.

फुटेज में दिखा भाई ले जाते हुए

पुलिस ने घटनास्थल से 200 मीटर पहले लगे सीसीटीवी कैमरे को चेक किया तो मासूम यशू अपने बड़े भाई सूरज सिंह के साथ जाता हुआ दिखा. एक घंटे के बाद सूरज सिंह फुटेज में अकेला ही वापस आता हुआ दिखा. उसके साथ उसका छोटा भाई यशू मौजूद नहीं था. पुलिस को यशू के बड़े भाई सूरज सिंह पर शक हो गया. पुलिस ने जब यशू के परिवार वालों से सूरज के बारे में जानकारी मांगी तो पता चला कि सूरज घटना के बाद सीतापुर कमलापुर अपने गांव चला गया. अचानक उसके गांव जाने से पुलिस का शक और भी गहरा हो गया. पुलिस की टीम सीतापुर पहुंची और सूरज सिंह को वहां से लेकर मडि़यांव पहुंची.

संपत्ति के लालच में भाई की ली जान

पुलिस ने जब सूरज से पूछताछ शुरू की तो पहले तो उसने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की. बाद में वह पुलिस के सवालों के आगे टूट गया. उसने छोटे भाई यशू की हत्या की बात स्वीकार कर ली. आरोपी ने बताया कि उसके पिता आए दिन उसको डांटते और फटकारते रहते थे. 13 अगस्त को सूरज के पिता ने उसे डांटते हुए प्रापर्टी में हिस्सा ना देने की बात कही. इस पर सूरज को लगने लगा कि शायद उसके पिता सारी सम्पत्ति उसके छोटे भाई यशू के नाम कर देंगे और उसको कुछ नहीं मिलेगा.

चाट खिलाने के बहाने से ले गया था

पिता की बात से नाराज सूरज ने छोटे भाई को रास्ते से हटाने की ठान ली. 14 अगस्त की रात वह छोटे भाई यशू को चाट खिलाने की बात कहकर अपने साथ ले गया. इसके बाद उसने एसएस जेडी स्कूल के पास पिंटू गुप्ता की दुकान पर यशू को चाट खिलाई और वापस घर के लिए चला. रास्ते में यासीनबाग के पास आरोपी सूरज ने छोटे भाई की मुंह व नाक दबाकर उसको बेहोश कर दिया. उसको यशू का गला दबा दिया. यशू के बेहोश होने पर आरोपी ने उसको औंधे मुंह पानी से भरे प्लाट में फेंक दिया और फरार हो गया.