PATNA : गांधी सेतु और इससे गुजरने वालों की सुरक्षा को लेकर पथ निर्माण विभाग गंभीर है. इसके लिए पथ निर्माण विभाग ने नए वित्तीय वर्ष के लिए सड़क सुरक्षा के संबंध में जो प्रस्ताव सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को भेजा है उसमें गांधी सेतु को प्राथमिकता दी गई है. पटना के साथ कुछ अन्य जिलों के लिए भी योजनाएं मंजूरी के लिए भेजी गई है.

इसमें गांधी सेतु के उत्तरी एप्रोच स्थित सेंट्रल वर्ज के 207 वें किमी से 212 वें किमी तक विद्युतीकरण के लिए 5 करोड़ रुपए की योजना भेजी गई है. इसी स्ट्रेच में मेटल क्रैश बैरियर लगाने के लिए 2 करोड़ का प्रस्ताव भेजा गया है. इसमें सेतु के उत्तरी एप्रोच में ही पाया संख्या एक से टोल प्लाजा तक विद्युतीकरण तथा अन्य सुरक्षा इंतजाम का प्रस्ताव भी शामिल है.

5 करोड़ रुपए से अनिसाबाद चौक होगा विकसित

बिहार में एनएच पर स्थित कई जंक्शन को भी सड़क सुरक्षा के तहत दुरुस्त किए जाने को ले चिन्हित किया गया है. इसमें पटना स्थित अनिसाबाद चौक को भी नए सिरे से विकसित किया जाएगा. एक किमी हिस्से में यह काम होगा और इस पर एक अनुमान के हिसाब से पांच करोड़ रुपए खर्च होंगे. बिहारशरीफ स्थित एनएच डिवीजन- 2 के अंतर्गत एनएच-31 पर जंक्शन को दुरुस्त किए जाने का प्रस्ताव है और इस पर दस करोड़ रुपए खर्च होंगे. छपरा में मलमलिया चौक के एक किमी हिस्से को ठीक करना है. इस पर भी दस करोड़ रुपए खर्च होंगे. भागलपुर रोड डिवीजन स्थित एनएच 80 के 94 वें, 95 और 99वें किमी में सड़क सुरक्षा पर काम होना है. इस पर भी दस करोड़ रुपए खर्च होंगे.

-लखीसराय में एनएच 333 का सेफ्टी ऑडिट

लखीसराय में एनएच 333 पर रोड सेफ्टी ऑडिट कराया जाएगा. इसके तहत 142 किमी में काम होगा. सभी एनएच पर ओवरहेड गैंट्री साइनबोर्ड लगाने की योजना भी सड़क सुरक्षा के तहत शामिल की गई है. इसके लिए पांच करोड़ रुपए की योजना केंद्र को भेजी गई है. सभी एनएच और एस की क्रॉसिंग पर यह साइनबोर्ड लगाए जाने हैं.