- नई कंपनी में समायोजन और लंबित वेतन का भुगतान न होने से 108 सर्विस के पूर्व कर्मचारियों में नाराजगी

DEHRADUN: नई कंपनी में समायोजन और लंबित वेतन के भुगतान की मांग को लेकर इमरजेंसी सर्विस 108 के पूर्व कर्मचारियों ने वेडनसडे को डीजी ऑफिस का घेराव किया। लेकिन आंदोलनकारियों के रुख से पहले ही डीजी ऑफिस का मेन गेट बंद कर दिया गया। पुलिस ने उन्हें भीतर जाने से रोक दिया। जिस पर कर्मचारी वहीं गेट पर धरने पर बैठ गए। करीब तीन घंटे तक आंदोलनकारी वहीं धरने पर डटे रहे। बाद में स्वास्थ्य निदेशक डॉ। आरके पांडे व डॉ अमिता उप्रेती ने कर्मचारियों के प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिए बुलाया। उनके आश्वासन पर कर्मचारियों ने धरना समाप्त किया।

30 अप्रैल से चल रहा आंदोलन

इमरजेंसी सेवा 108 के पूर्व कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर बीती 30 अप्रैल से परेड मैदान स्थित धरना स्थल पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। छह दिनों से उनका क्रमिक अनशन चल रहा है। वेडनसडे को कर्मचारियों ने डांडा लखौंड स्थित डीजी ऑफिस कूच किया। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना व भाजपा नेता रविंद्र जुगरान भी उनके साथ धरने पर बैठे। उन्होंने राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला। स्वास्थ्य निदेशक डॉ। आरके पांडे व डॉ। अमृता उप्रेती ने कर्मचारियों को बताया कि पुरानी कंपनी को पूरा भुगतान किया जा चुका है, उन्हें भरोसा दिलाया कि समस्या का हल निकाला जाएगा। विभाग का यह प्रयास होगा कि उनका बकाया वेतन जल्द मिल जाए। इसके लिए 17 मई को कंपनी के प्रतिनिधियों को बुलाकर त्रिस्तरीय वार्ता की बात भी कही।