क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: रांची जिले के सभी 129 पेट्रोल पंपों को परिवहन विभाग ने नोटिस दिया है कि 31 दिसंबर तक प्रदूषण जांच केंद्र, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल(पीयूसी) सेंटर स्थापित कर लें वरना पंप का लाइसेंस रिन्यूअल नहीं किया जाएगा और पेट्रोल पंप में ताले लग जाएंगे. रांची जिला परिवहन पदाधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के सख्त आदेश के बाद जिले में स्थित सभी पेट्रोल पंपों को निर्देश दिया गया है कि 31 दिसंबर तक अपने पेट्रोल पंप पर पीयूसी सेंटर की स्थापना कर लें. ऐसा नहीं करने वाले पेट्रोल पंपों का लाइसेंस रिन्यूअल नहीं किया जाएगा.

रांची में 129 पेट्रोल पंप

रांची जिले में अलग-अलग पांच कंपनियों के पेट्रोल पंप हैं. इनमें से शहरी क्षेत्र में करीब 63 पेट्रोल पंप हैं. पेट्रोलियम कंपनियां वाहनों से निकलने वाले धुएं की जांच के लिए पीयूसी मशीन सहित स्मोक यूनिट स्थापित करेंगी. हालांकि, केंद्र खोलने के लिए थर्ड पार्टी को भी प्राथमिकता दी जा सकती है. पेट्रोल पंप पर प्रदूषण जांच केंद्र खुलने से वाहन मालिकों को सुविधा होगी और इससे प्रदूषण नियंत्रण करने में सहूलियत होगी. वर्तमान में जिले के सभी क्षेत्रों में विभिन्न कंपनियों के पेट्रोल पंप संचालित हैं, जहां दो पहिया और चार पहिया वाहन मालिक ईंधन के रूप में पेट्रोल व डीजल खरीदते हैं.

रांची में पांच कंपनियों के पेट्रोल पंप हैं

रांची जिले में पांच कंपनियों के पेट्रोल पंप हैं. तीन कंपनियां सरकारी और दो निजी हैं. इसमें इंडियन ऑयल, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के अलावा भारत पेट्रोलियम सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां हैं, जबकि एस्सार और रिलायंस निजी क्षेत्र की कंपनियां हैं.

डीटीओ ने भेजा है नोटिस

रांची जिला परिवहन पदाधिकारी की ओर से पेट्रोल पंपों पर केंद्रों को लाइसेंस देने में आ रही परेशानियों को देखते हुए सभी पेट्रोलियम कंपनियों को पत्र लिखा है और उनको निर्देश दिया है कि जितनी जल्द से जल्द हो सके जांच केंद्र शुरू करें.

सुप्रीम कोर्ट का है आदेश

वाहनों के कारण शहरों में बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सभी पेट्रोल पंपों में प्रदूषण जांच केंद्रों की स्थापना का आदेश दिया है. इसी आदेश के क्रियान्वयन के लिए परिवहन विभाग ने सभी पंपों पर प्रदूषण जांच केन्द्र खोलने का निर्देश दिया है. यह निर्देश पहले भी दिया जा चुका है, लेकिन अभी तक अमल नहीं हुआ है. अब परिवहन विभाग सख्त हो गया है और कड़ी मॉनिटरिंग कर रहा है.

इसलिए जरूरी है जांच केंद्र

रांची में हर दिन प्रदूषण का लेवल बढ़ रहा है. शहरों में कुल प्रदूषण का एक चौथाई यानी 25 फ सदी प्रदूषण वाहनों के कारण होता है. राज्य सरकार प्रदूषण को कम करने के लिए पहले ही 15 साल से पुराने वाहनों के परिचालन पर रोक लगा चुकी है.

वर्जन

राजधानी में प्रदूषण कंट्रोल करने के लिए सभी पेट्रोल पंपों पर पीयूसी मशीन लगाने का आदेश विभाग ने दिया है. जिला परिवहन कार्यालय से सभी पेट्रोल पंप को लाइसेंस लेने के लिए पत्र लिखा गया है. विभाग ने सख्त आदेश दिया है कि हर पेट्रोल पंप पर केंद्र खोलना अनिवार्य है, जहां पीयूसी सेंटर नही खोला जाएगा उनका लाइसेंस रिन्यूअल नहीं किया जाएगा.

संजीव कुमार, जिला परिवहन पदाधिकारी, रांची