- मेरठ दक्षिण से सोमेन्द्र तोमर बने भाजपा प्रत्याशी

- मेरठ कैंट पर अभी मंथन जारी, असमंजस में फंसी सीट

- मेरठ में बाकी सीटों के प्रत्याशियों की भी घोषणा

MEERUT: काफी जद्दोजहद के बाद आखिर बीजेपी ने नामांकन से एक दिन पहले अपने पत्ते खोल ही दिए। बीजेपी ने इस बार पुराने नेताओं को छोड़ते हुए नए चेहरों पर दाव लगाया है। मेरठ दक्षिण विधानसभा से दिग्गजों को पछाड़ एक बार फिर सोमेन्द्र तोमर बीजेपी के प्रत्याशी बनाए गए। इसके अलावा किठौर से दिनेश खटीक, किठौर से सतवीर त्यागी, और सिवाल खास से जितेन्द्र सतवई से पार्टी ने भरोसा जताया है। मेरठ कैंट सीट अभी असमंजस में हैं। जबकि शहर और सरधना सीट पर पार्टी ने सीटिंग विधायकों को ही टिकट दिया है।

विधायक का विरोध बना सहायक

दरअसल एबीवीपी से राजनीति की शुरुआत करने वाले सोमेन्द्र तोमर को 2012 में टिकट मिला था, लेकिन संघ के विरोध के कारण एक सप्ताह बाद टिकट काट दिया गया था। पांच साल के विधायक के कार्यकाल से स्थानीय लोग नाराज थे। जिसका फायदा सोमेन्द्र तोमर को मिला। इसके अलावा पांच साल तक पार्टी में नेताओं से साख बनाने का फायदा तोमर को मिलना राजनीतिक पंडित मान रहे है।

यहां भी बदले टिकट

सिवालखास विधान सभा से पिछली बार समरपाल चुनाव लडें थे। उनका बीमारी के चलते स्वर्गवास हो जाने के कारण सीट पर एक दर्जन दावेदारों की सूची थी। लेकिन पार्टी ने जितेन्द्र सतवाई पर भरोसा जताया। इसके अलावा किठौर सीट पर रालोद छोड़कर पार्टी ज्वाइन करने वाले सत्यवीर त्यागी को पार्टी ने उम्मीद्वार बनाया। साथ ही महत्वपूर्ण सीट कहे जाने वाली हस्तिनापुर पर पार्टी ने दिनेश खटीक टिकट दिया।

कैंट पर रार बरकरार

कैंट विधान सभा पर पिछली तीन बार से दिग्गज सत्यप्रकाश अग्रवाल का कब्जा है। लेकिन इस बार पार्टी सूत्रों के मुताबिक उनका टिकट काटने की तैयारी पार्टी कर रही थी। जिस पर अग्रवाल समर्थक लोग दिल्ली पहुंच गए और फिर से उन्हे ही प्रत्याशी बनाने की वकालत कर दी। इस पर सीट को अभी रोक दिया गया है। अगली सूची में शायद कैंट फाइनल हो पाए।

विधानसभा प्रत्याशी

मेरठ शहर लक्ष्मीकांत वाजपेयी

मेरठ दक्षिण डॉ सोमेन्द्र तोमर

सिवाल खास जितेन्द्र सतवाई

किठौर सत्यवीर त्यागी

हस्तिनापुर दिनेश खटीक

सरधना संगीत सोम

मेरठ कैंट विचाराधीन

---------