मॉस्को (एपी)। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने बुधवार को चेतावनी दी कि अगर अमेरिका महत्वपूर्ण हथियार संधि से बाहर निकलकर प्रतिबंधित मिसाइलें विकसित करता है तो रूस भी ऐसा ही करेगा। बता दें कि मंगलवार को अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने नाटो में बैठक के दौरान कहा कि रूस ने 1987 में हुई इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आईएनएफ) संधि का उल्लंघन करते प्रतिबंधित मिसाइल विकसित कर रहा है और यदि वो 60 दिन के अंदर पूरी तरह से संधि का पालन नहीं करता है तो अमेरिका खुद को इस महत्वपूर्ण संधि से अलग कर लेगा। इसी बयान के बाद पुतिन ने अपनी प्रतिक्रिया दी।

बिना चेतावनी के कर सकता है हमला

अमेरिक ने अपने नाटो सहयोगियों के साथ एक खुफिया साक्ष्य साझा किए हैं, जिसमें आरोप लगाते हुए कहा गया कि रूस ने एसएससी-8 नाम की ग्राउंड क्रूज मिसाइल बनाई है, जो बिना किसी चेतावनी के यूरोप के किसी भी शहर को अपना निशाना बनाने की क्षमता रखती हैं। हालांकि, रूस ने इन आरोपों को खारिज कर दिया। पुतिन ने बुधवार को कहा कि अमेरिका समझौते से बाहर निकलने का कोई बहाना ढूंढ रहा है वो पहले ही इस संधि से बाहर निकालने का अपना मन बना लिया था, इसीलिए वो गलत तरीकें का आरोप लगा रहा है।

कुछ मिनटों में लक्ष्य तक पहुंचने वाले हथियार बैन
पुतिन ने कहा कि उन्हें लगता है कि अमेरिका के पास पहले से ही ऐसे हथियार मौजूद हैं, ऐसे में हमारी प्रतिक्रिया यही है कि अगर अमेरिका महत्वपूर्ण हथियार संधि से बाहर निकलकर प्रतिबंधित मिसाइलें विकसित करता है तो रूस भी ऐसा ही करेगा। बता दें कि 1987 में जारी हुए आईएनएफ संधि के तहत कोई भी देश जमीन से दागी जाने वाली ऐसी मिसाइल नहीं बना सकता है, जो कुछ ही मिनटों में कम दूरी वाले लक्ष्य को आसानी से भेद दें।

अमृतसर रेल हादसा : रूसी राष्‍ट्रपति पुतिन भी हैं घटना से दुखी, यूं व्‍यक्‍त की संवदेना

व्हाइट हाउस से मिले न्योते के बाद पुतिन ने भी ट्रंप को किया रूस में आमंत्रित

International News inextlive from World News Desk