बिजली विभाग ने चार माह में 1484 लाख रूपये वसूले

सबसे अधिक पश्मिांचल में हुई बिजली कनेक्शन की चेकिंग

Meerut. बिजली कटौती के सबसे बडे़ कारण को दूर करने के लिए शुरू हुई विद्युत विभाग की कवायद अब रंग लाने लगी है. विद्युत विभाग द्वारा गत चार माह में बिजली चोरों के खिलाफ छेड़ी गई मुहिम से विभाग ने रिकार्ड वसूली की है. इस कवायद का लाभ विभाग को 15 अगस्त से होने वाले नो ट्रिपिंग जोन की शुरुआत में मिलेगा.

चार माह में 1484 लाख

बिजली चोरों के खिलाफ अभियान के तहत पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम अन्य चारों विद्युत प्रदाता वितरण निगमों से अव्वल रहा है. पिछले चार माह में चले अभियान के तहत पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम ने 14 जनपदों में चलाए अभियान के तहत 34726 उपभोक्ताओं के कनेक्शनों की जांच की. जिनमें से 8475 कनेक्शनों में बिजली चोरी मिलने पर एफआईआर कराई गई और करीब 8951.60 का कर निर्धारण किया गया.

1 अप्रैल से 31 जुलाई तक हुई वसूली के आंकडे़

डिस्कॉम रेड विद्युत चोरी एफआईआर वसूली लाख में

पश्मिांचल 34726 23377 8475 1484

दक्षिणांचल 24772 18734 5140 420

मध्यांचल 18218 8558 3898 572

पूर्वाचल 19682 10186 8475 596

केस्को 2221 1090 691 82.91

एमडी पॉवर के नेतृत्व में लगातार जारी अभियान के तहत विद्युत चोरों पर लगाम कसने और अधिक से अधिक जुर्माना वसूलने का प्रयास किया जा रहा है. इस अभियान में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम चारों निगम में अव्वल रहा है.

बीएस यादव, चीफ इंजीनियर