शट डाउन लेने के बाद जनप्रतिनिधियों को सूचना देगा पीवीवीएनएल

शट डाउन के कारण से लेकर समयावधि तक की देंगे जानकारी

MEERUT। आपके क्षेत्र में कब क्यों और कब तक बिजली गुल रहेगी इसकी जानकारी के लिए अब आपको केवल बिजली विभाग के कर्मचारियों तक सीमित नही रहना पडे़गा। यदि बिजली विभाग से पॉवर गुल होने का कोई संतुष्ट जवाब नही मिल रहा है तो आप अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि, सभासद से भी इस कट के बारे में जानकारी ले सकते हैं पॉवर कॉरपोरेशन ने शट डाउन लेने के बाद जनप्रतिनिधियों को अवगत कराने की व्यवस्था को लागू किया है। हालांकि, इससे पहले सीधा उपभोक्ता के मोबाइल पर पॉवर कट की सूचना भेजने की भी व्यवस्था की गई थी लेकिन वह कुछ उपभोक्ताओं तक ही सीमित रह गई है।

शटडाउन न बने परेशानी

मेंटीनेंस वर्क, मौसम के कारण या किसी अन्य कारण से नियोजित रुप से लिए गए शट डाउन के लिए बिजली विभाग पूर्व सूचना अखबारों और जन प्रतिनिधियों के माध्यम से भेजेगा। इसमें शट डाउन के कारण से लेकर समयावधि तक की पूरी जानकारी दी जाएगी ताकि क्षेत्र के लोग परेशान ना हों और बिजली विभाग को सहयोग करें।

मोबाइल पर भी मिलेगा मैसेज

इसके साथ ही विद्युत विभाग की मोबाइल मैसेंजिंग सुविधा को भी अपडेट करेगा। इसमें उपभोक्ता के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर शटडाउन की पूर्व सूचना, समयावधि को भी भेजा जाएगा। हालांकि यह व्यवस्था जारी है लेकिन कई उपभोक्ताओं को मैसेज नही मिल पा रहा है। इसके लिए विभाग उपभोक्ताओं को अपना मोबाइल नंबर अपडेट कराने और चेक कराने की सुविधा देगा।

शटडाउन की पूर्व सूचना मिलने से उपभोक्ता परेशान नही होंगे और अपने काम शटडाउन के हिसाब से एडजस्ट कर लेंगे। जन प्रतिनिधि जनता के बीच में रहते हैं इसलिए उनके माध्यम से क्षेत्र में बिजली विभाग द्वारा कराए जा रहे कार्य और शटडाउन की सही सूचना लोगों को मिल जाएगी।

बीएस यादव, चीफ इंजीनियर

कोटस-

अभी तो इस प्रकार की कोई जानकारी नही मिली है लेकिन यदि यह व्यवस्था लागू हो रही है तो सही रहेगी।

- धर्मवीर, पार्षद

मेरा नंबर कनेक्शन नंबर के साथ पंजीकृत है, लेकिन मोबाइल पर पॉवर कट का मैसेज नही आता। पहले कुछ दिन आया था लेकिन अब बंद हो गया है।

- सतीश पाल

मोबाइल पर पॉवर कट की सूचना नही मिल रही है। नंबर कनेक्शन के साथ अपडेट कराया था। लेकिन पॉवर कट या शट डाउन का मैसेज नही आ रहा है।

- दीपक वर्मा

शटडाउन की पूर्व सूचना का निर्णय सही है, लेकिन यह भी डायरेक्ट उपभोक्ता को मोबाइल पर जानकारी मिल जाए तो बेहतर रहेगा।

- अमित मित्तल