-प्रभारी मंत्री ने 15 अक्टूबर तक गड्ढामुक्त करने का दिया था आदेश

-1200 में महज 500 किमी. सड़कों की हो सकी मरम्मत

Bareilly: 15 अक्टूबर तक सड़कों के गड्ढा मुक्त होने का दावा पूरा नहीं हो सका. लापरवाह पीडब्ल्यूडी के अफसरों ने मंत्री की डेडलाइन की भी परवाह नहीं की. नतीजा यह रहा कि महज 1200 किमी. में सिर्फ 500 किमी. सड़कों का ही मरम्मत कार्य हो सका. नवम्बर से पहले गड्ढेदार सड़कों पर हिचकोले खाने से राहत मिलने के आसान नहीं दिख रहे हैं.

प्रभारी मंत्री को दिया धोखा

पिछले महीने प्रभारी मंत्री ब्रजेश पाठक विकास कार्यो की समीक्षा करने बरेली आए थे. इस दौरान उन्होंने मंडल की सभी सड़कों को 15 अक्टूबर तक गड्ढामुक्त बनाने का निर्देश दिया था. प्रभारी मंत्री के तेवर को भांपते हुए पीडब्ल्यूडी के अफसरों ने हां में हां भी मिलायी कि डेडलाइन से पहले सभी सड़कों पर मरम्मत कार्य पूरा कर लिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं कर सके.

बचाव के लिए बारिश का झूठ

समय से पहले सड़कें बनाने में विफल रहे अफसरों ने इसका ठीकरा बारिश के ऊपर मढ़ दिया. झूठ बोलते वक्त अफसर इस बात का भी ध्यान नहीं दे पाए कि प्रभारी मंत्री की डेडलाइन के बाद कभी भी ऐसी बारिश नहीं हुई, जिससे काम में बाधा पैदा हो.

पीडब्ल्यूडी की नौ सड़कें

पीडब्ल्यूडी की शहर में अलग-अलग हिस्सों में भोजीपुरा मार्ग, खटीमा सितारगंज मार्ग, बरेली मिनीबाई पास मार्ग,फरीदपुर बीसलपुर मार्ग,किला बाईपास मार्ग, बरेली मथुरा मार्ग, सीबीगंज रेलवे पोषक मार्ग, पीलीभीत बरेली शहरी भाग, गैनी अखा मार्ग की नौ सड़कें हैं. इनमे से सभी सड़कें कई किमी तक गड्ढे हैं, लेकिन आज तक कार्य नहीं शुरू हुआ.

वर्जन:

बारिश होने के चलते निर्माण कार्य में देरी हो रही है. जिसको ध्यान में रखते हुए अब 30 नवम्बर तक सड़कों को गड्ढामुक्त किया जा सकेगा.15अक्टूबरको यह कार्य पूरा होना था, लेकिन बारिश होने के चलते ऐसा नहीं हो सका.

राकेश राजवंशी, चीफ इंजीनियर, पीडब्ल्यूडी