इविवि के मुकदमे के बाद पूर्व छात्रनेता ने पुलिस महानिदेशक, आईजी व एसएसपी को भेजा प्रार्थना पत्र

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: इविवि के पूर्व छात्रनेता अविनाश दुबे के खिलाफ विवि प्रशासन द्वारा मुकदमा दर्ज कराए जाने के बाद अविनाश की ओर से भी एसएसपी को प्रार्थना पत्र दिया गया है. जिसमें उसने कहा है कि 05 सितम्बर की रात्रि 12:38 एएम पर उसने अपने फेसबुक पेज पर इविवि के कुलपति और एक महिला के बीच हुई अंतरंग व अश्लील चैटिंग को पोस्ट किया था. यह काम उसने महिला के कहने और उसकी ओर से उपलब्ध करवाए गए साक्ष्यों के आधार पर किया. यह प्रार्थना पत्र राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, एमएचआरडी व राज्यपाल को भेजा है.

मैं हर स्तर पर सहयोग के लिए तैयार

प्रार्थना पत्र में अविनाश ने कहा है कि वह जांच में हर स्तर पर सहयोग के लिए तैयार है. कहा कि जांच किसी उच्च स्तरीय अधिकारी या किसी आईपीएस से करवाई जाए. अविनाश ने कहा है कि प्रार्थी के द्वारा प्रयोग किए जा रहे दोनो मोबाइल नम्बर और महिला के दोनो मोबाइल नम्बरों की कॉल डिटेल जून से अगस्त 2018 तक तथा तकनीकी जांच करते हुए सच्चाई सामने लाने हेतु आदेशित करें. निवेदन किया है कि जांच का प्रमुख विषय कुलपति के दो मोबाइल नम्बर के साथ महिला के मोबाइल नम्बर की कॉल डिटेल, वाहट्सएप हिस्ट्री अथवा इन दो लोगों के बीच हुई चैटिंग को दिसम्बर 2017 से अब तक निकलवाने की कृपा करें.

एक और निम्न स्तर का प्रयास- आक्टा

उधर, इविवि एवं कॉलेज अध्यापक संघ, ऑक्टा कार्यकारिणी की आपात बैठक में इविवि के कुलपति के विरुद्ध की गई साजिश की भत्सर्ना की गई. सभी सदस्यों ने कुलपति और विवि की छवि पर धब्बा लगाने के प्रयास को अत्यंत कुत्सित बताया. आक्टा के नए अध्यक्ष डॉ. एसपी सिंह की अध्यक्षता में ईसीसी में हुई बैठक में सभी ने इस पूरे मामले की जांचकर दोषियों को सजा देने की मांग की. डॉ. सिंह ने कहा कि यह विरोधियों के फ्रस्ट्रेशन को दिखाता है. महासचिव डॉ. उमेश प्रताप सिंह ने इसे विवि के कायरें में लगातार अवरोध पैदा करने के प्रयासों की कड़ी में एक और निम्न स्तर का प्रयास बताया.