-रातभर चला प्रदर्शन, एसएसपी के खिलाफ नारेबाजी, बर्खास्त करने की मांग

- कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक के समझाने पर माने लोग, इंस्पेक्टर कैसरबाग सस्पेंड

- एडीजी आईजी समेत भारी पुलिस मच्र्युरी पर रही मौजूद

- मुआवजा, नौकरी, सुरक्षा और गिरफ्तारी की मांग

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: बीजेपी नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की हत्या के मामले में सोमवार की रात से लेकर मंगलवार की सुबह तक समर्थकों ने ट्रामा सेंटर के गेट पर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. नाराज समर्थक एसएसपी कलानिधि नैथानी और पुलिस की कार्यशैली से नाराज थे. एसएसपी को बर्खास्त करने की मांग के साथ जमकर नारेबाजी की. कई घंटे चले हंगामे के बाद भारी सुरक्षा के बीच डॉक्टर्स के पैनल ने प्रत्युषमणि त्रिपाठी के शव का पोस्टमार्टम किया. इसके बाद शव को कैसरबाग मॉडल हाउस स्थित प्रत्युषमणि त्रिपाठी के घर ले जाया गया. वहां से समर्थक उनके शव को लेकर बीजेपी दफ्तर भी पहुंचे. जहां से बैकुंठधाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया. आईजी ने पूरे मामले में इंस्पेक्टर कैसरबाग को सस्पेंड भी कर दिया है. वहीं पुलिस ने दो आरोपियों को कोर्ट के बाहर से गिरफ्तार कर लिया है.

ट्रामा सेंटर के बाहर फूटा आक्रोश
कैसरबाग के मॉडल हाउस के रहने वाले भाजपा नेता प्रत्युषमणि त्रिपाठी पर सोमवार की देररात बादशाहनगर रेलवे स्टेशन के पास चाकू से हमला किया गया था. उनको इलाज के लिए ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई. भाजपा नेता प्रत्युषमणि त्रिपाठी की हत्या के बाद उनके समर्थक भड़क उठे और ट्रामा सेंटर में नारेबाजी करने लगे. मौके पर एसएसपी कलानिधि नैथानी पहुंचे तो उनको प्रदर्शन कर रहे लोगों के गुस्से का सामान करना पड़ा. नाराज लोग एसएसपी और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी करने लगे. एसएसपी को बर्खास्त करने की मांग की. बीजेपी नेता की बहन दिव्या ने आरोपियों की गिरफ्तारी, एक करोड़ रुपये मुआवजा, मृतक के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी, बच्चों की मुफ्त शिक्षा, परिवार को सुरक्षा देने और दोषी पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पूरी रात हंगामा किया. भारी पुलिस बल को ट्रामा सेंटर के बाहर तैनात कर दिया गया.

इंस्पेक्टर सस्पेंड, मंत्री ने दिया आश्वासन
सुबह करीब 10 बजे कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक, एडीजी जोन राजीव कृष्णा, आईजी रेंज सुजीत पांडेय और डीएम कौशल राज मौके पर पहुंचे. प्रदर्शन कर रहे लोगों से बातचीत हुई. मंत्री ब्रजेश पाठक ने परिवार की सभी मांगों को पूरा किए जाने का आश्वासन दिया. वहीं आईजी सुजीत पांडेय ने इस मामले में लापरवाही बरतने पर इंस्पेक्टर कैसरबाग धीरेन्द्र प्रताप कुशवाहा को सस्पेंड का आदेश देते हुए प्रत्युषमणि त्रिपाठी के परिवार वालों को सुरक्षा और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पांच टीमों के गठन का ऐलान किया. इसके बाद प्रत्युषमणि के शव को पोस्टमार्टम के लिए मच्र्युरी भेजा गया.

छावनी में तब्दील हुआ पोस्टमार्टम हाउस
भाजपा नेता प्रत्युषमणि त्रिपाठी के शव को पोस्टमार्टम डाक्टर्स के एक पैनल से कराया गया. साथ ही पूरी पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई. इस दौरान पोस्टमार्टम हाउस पर पूरी तरह छावनी में तब्दील कर दिया गया था. एडीजी राजीव कृष्णा, आईजी रेंज समेत शहर के कई पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी पोस्टमार्टम हाउस पर मौजूद रहे.

पत्नी ने दर्ज कराई पांच के खिलाफ रिपोर्ट
भाजपा नेता प्रत्युषमणि त्रिपाठी की हत्या के मामले में उनकी पत्नी प्रतिमा त्रिपाठी ने मोहल्ले में रहने वाले सलमान, शीबू, अदनान, धु्रव वर्मा, रोहित सिंह समेत 20 से 25 अज्ञात युवकों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है. पुलिस ने दोनों सगे भाई अदनान और सलमान को गिरफ्तार कर लिया है. वहीं पुलिस की टीमें लगातार नामजद आरोपियों की तलाश में दबिश दे रही हैं. आईजी रेंज सुजीत पांडेय ने बताया कि इस मामले में आरोपियों के खिलाफ एनएसए की भी कार्रवाई की जाएगी.

कोर्ट में सरेंडर करने के फिराक में थे
हत्या के मामले में मंगलवार की शाम करीब चार बजे वजीरगंज पुलिस ने कोर्ट में सरेंडर करने की फिराक में लगे नामजद आरोपी अदनान और सलमान को कोर्ट के बाहर गिरफ्तार कर लिया. दोनों सगे भाई की गिरफ्तारी के लिए टीम सोमवार देररात उनके घर पहुंची थी, लेकिन वह मौके से फरार हो गए थे. मंगलवार सुबह आरोपी का पूरा परिवार घर में ताला डालकर गायब हो गया था.

छावनी बना प्रत्युष का घर और गली
प्रत्युषमणि की हत्या के बाद उनके घर पर लोगों का तातां जुटने लगा. ऐसे में सुरक्षा को लेकर पहले से ही भारी पुलिस बल को उनके घर और आसपास के इलाके में तैनात कर दिया गया था. बीजेपी नेता के घर से कुछ ही दूरी पर आरोपियों का भी घर है. ऐसे में पुलिस ने पहले से प्रत्युषमणि त्रिपाठी के घर से आरोपी के घर की तरफ जाने वाली गली पर बैरिकेडिंग करके पूरी तरह ब्लॉक कर दिया था. मौके पर कई थानों की फोर्स के साथ पीएसी बल को गली में पहले से ही तैनात कर दिया गया था. दोपहर को जब प्रत्युषमणि का शव उनके घर पहुंचा तो वहां कोहराम मच गया. पत्नी और बच्चों का रो रो कर बुरा हाल हो गया था. कुछ देर बाद शव को पुलिस की निगरानी में अंतिम संस्कार के लिए बैकुंठधाम ले जाया गया.

फुटेज में दिखे बाइक सवार तीन संदिग्ध युवक
भाजपा नेता प्रत्युषमणि की हत्या के मामले में छानबीन कर रही महानगर पुलिस बादशाहनगर रेलवे स्टेशन के पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है. अभी तक यह साफ नहीं हो सका है कि प्रत्युषमणि बादशाहनगर किसी काम से गए थे. एसपी पश्चिम ने बताया कि सिर्फ इस बात का ही पता चल सका है कि वह बाइक से बादशाहनगर रेलवे स्टेशन गये थे. मौके से उनकी बाइक पुलिस को मिली है वह उनके किसी दोस्त की है. एसपी टीजी ने बताया कि बीजेपी नेता घायल अवस्था में डॉ. नकुल सिन्हा के आवास की बाउंड्री वॉल के पास मिले थे. वहां आस-पास के सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखी जा रही है. एक कैमरे में बाइक सवार तीन संदिग्ध युवक नजर आए है. फुटेज को और ज्यादा साफ कर उसे देखा जा रहा है.

प्रत्यूष मणि की हत्या से भाजपा में शोक
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय एवं प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने भाजपा कार्यकर्ता प्रत्यूष मणि त्रिपाठी की हत्या को दुखद बताते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट की है. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस मामले में दोषी बख्शे नहीं जाएंगे. दुख की इस घड़ी भाजपा संगठन प्रत्यूष मणि त्रिपाठी के परिवार के साथ है.