खुफिया विभाग की रिपोर्ट ने जताई वेस्ट यूपी में जातीय हिंसा की आशंका

कमिश्नरी पर हो चुकी है राजपूत और दलित महापंचायत

सरधना में युवती पर केरोसिन उड़ेलकर आग लगाने के मामले से भी उबाल

Meerut. लोकसभा चुनाव से पहले वेस्ट यूपी में जातीय हिंसा की आशंका जताई जा रही है. दरअसल, खुफिया विभाग ने इस मामले में अपनी रिपोर्ट पुलिस अधिकारियों को सौंपी है. रिपोर्ट के मुताबिक दो जातियों के बीच संघर्ष आने वाले दिनों में हिंसक रूप ले सकता है.

सरधना मामले से उबाल

अभी भी ताजा मामला सरधना से जुड़ा हुआ है जिसमें एक युवती पर केरोसिन उड़ेलकर उसे जलाया गया था, हालांकि, इस मामले में पांच आरोपियों को जेल भेजा जा चुका है, इस मामले में एक विशेष जाति का आक्रोश देखा जा रहा है. जिस पर भी खुफिया एजेंसियों की खास नजर है.

व्यापारी का विवादित बयान

सरधना की युवती पर केरोसिन उड़ेलकर आग लगाने के मामले में व्यापारी नेता जीतू नागपाल ने भी आरोपियों के खिलाफ विवादित बयान दिया था. जिस पर जीतू के खिलाफ सदर पुलिस ने केस दर्ज किया है. इस मामले में दोनो जातियों की ओर से महापंचायत भी की जा चुकी है.

बैकफुट पर विधायक

बीते दिनों बीजेपी के विधायक को भी सरधना में जली युवती के मामले में दलितों के पक्ष में सोशल मीडिया में कमेंट करना भारी पड़ गया. विरोध के बाद विधायक बैकफुट पर आ गए, और कहाकि उनका एकाउंट हैक करके मैसेज को अपलोड किया गया. वहीं, जयंत राणा ने कहाकि यदि पीडि़त छात्रा को 26 अगस्त तक 30 लाख का मुआवजा नहीं मिला तो सरधना से दिल्ली तक पैदल मार्च किया जाएगा.

उल्देपुर में तनाव

बीते दिनों उल्देपुर गांव में जातीय हिंसा में 22 वर्षीय युवक रोहित गौतम की मौत हो चुकी है. दूसरी जाति के भी कई लोग घायल है. दोनों तरफ से बीस लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज है. गांव में तनाव के कारण पैरा मिल्ट्री फोर्स की तैनाती की गई है.

जातीय हिंसा के मामले

17 अगस्त 2018 : चार शोहदों ने सरधना में 10वीं की छात्रा पर केरोसिन उड़ेल दिया था, छात्रा का उपचार दिल्ली में चल रहा है. इस मामले में छह युवकों पर मुकदमा दर्ज कराया गया है.

9 अगस्त 2018 : इंचौली थाना क्षेत्र के उल्देपुर में रोहित गौतम की जातीय हिंसा के कारण मौत हो चुकी है.इससे गांव में तनाव व्याप्त है.

18 जून 2018 : रिठानी में छेड़खानी को लेकर दो जातियों में हिंसा हो गई थी. इसमें 20 लोग जख्मी हो गए थे.

15 मई 2018 : पूठा गांव में वर्चस्व को लेकर गुर्जरों और दलितों में जमकर लाठी डंडे चले थे, इसमें युवक राहुल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

13 मई 2018 : गत् 13 मई को हस्तिनापुर पुलिस ने जातीय हिंसा फैलाने के आरोप में छह युवक को गिरफ्तार किया था. पुलिस का दावा था कि वह भीम सेना के सक्रिय सदस्य है.

5 अप्रैल 2018 : शोभापुर के गांव में बसपा नेता की जातीय हिंसा के चलते गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस कारण गांव में तनाव फैल गया था.

जातीय हिंसा की आशंका के मद्देनजर कई गांवों में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई है. एसपी देहात व सीओ ठाकुर व दलित नेताओं से लगातार संपर्क में है. पुलिस गांव में शांति भाईचारा बनाने की अपील कर रही है.

राजेश कुमार पांडे एसएसपी