-सिटी में रहकर कुख्यात रईस चला रहा था गैंग, क्राइम ब्रांच सहित एसटीएफ तक को नहीं लगी भनक

-हाल ही में एक बिल्डर से मांगी थी दस लाख की रंगदारी

कानपुर, लखनऊ, बनारस सहित पूर्वाचल में आतंक का पर्याय रहे कुख्यात 50 हजार का इनामी रईस बनारसी शहर में रहकर बिल्डर्स और चिकित्सकों सहित कोचिंग संचालकों को रंगदारी के लिए धमकाता था. हाल ही में उसने नई सड़क स्थित एक नामी बिल्डर से दस लाख की रंगदारी मांगी थी. हालांकि दबंग किस्म के बिल्डर ने रईस को रंगदारी देने से साफ इनकार कर दिया था. इस पर रईस ने उसे देख लेने की धमकी भी दी थी. इतना कुछ शहर में चल रहा था और पुलिस, क्राइम ब्रांच सहित एसटीएफ तक को भनक नहीं लगी. सूत्रों की मानें तो रईस ने अपना ठिकाना नई सड़क और पड़ाव के साहूपुरी एरिया में बना रखा था. औद्योगिक नगर पुलिस चौकी के अंतर्गत आने वाले साहूपुरी में एक सफेदपोश ने उसे संरक्षण दे रखा था.

सांस लेने लगे बिल्डर्स, डॉक्टर्स

बात-बात पर पीठ थपथपवाने वाली क्राइम ब्रांच की पकड़ से दूर रहे रईस बनारसी की मौत होने की खबर जैसे ही शहर में फैली तो बिल्डर्स और डॉक्टर्स ने राहत की सांस ली. सबसे अधिक रईस का खौफ रियल इस्टेट के कारोबारियों में था. रंगदारी और लूट के लिए हत्या करना रईस के लिए बाएं हाथ का खेल माना जाता था. बीते साल रईस ने अर्दली बाजार के एक फेमस पीडियाट्रिक्स से 25 लाख की रंगदारी मांगी थी. दालमंडी में रईस का रसूख नंबर एक पर था.