गैंगवार में 50 हजार के ईनामी रईस की हत्या

-हथियार बंद बदमाशों ने रईस के साथी राकेश अग्रहरि की भी ली जान

-दशाश्वमेध के पातालेश्वर में शाम को तड़तड़ाई गोलियां

-पुलिस बता रही आपसी गोलीबारी में दोनों की मौत की बात

varanasi

शहर का भीड़भाड़ वाला इलाका दशाश्वमेध थाना एरिया पतालेश्वर शुक्रवार की शाम गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा. सरेआम हुए गैंगवार में हथियार बंद बदमाशों ने 50 हजार रुपये के ईनामी रईस बनारसी की हत्या कर दी. उसके साथ राकेश अग्रहरि की जान भी ले ली. एक साथ हुई दो हत्याओं से शहर में हड़कम्प मच गया. पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए. हालांकि पुलिस घटना को अलग ही रंग दे रही है. एसपी सिटी दिनेश सिंह का कहना है कि दोनों बदमाशों ने एक-दूसरे पर गोली चलायी. क्रास फायरिंग में दोनों की मौत हो गयी.

अचानक किया हमला

बंगाली टोला निवासी राकेश अग्रहरी खालिसपुरा निवासी रईस बनारसी के गैंग का ही मेम्बर था. स्थानीय लोगों का कहना था कि दोनों शाम को पातालेश्वर में एक साथ मौजूद थे. तभी हथियारबंद बदमाशों ने दोनों पर हमला कर दिया. अत्याधुनिक असलहों से ताबड़तोड़ गोलियां चलाने के साथ ही धारदार हथियार से हमला वार किया. राकेश को सिर समेत अन्य जगहों पर तीन गोलियां लगीं और मौके पर ही उसकी मौत हो गयी. रईस को गोली मारने के साथ ही बदमाशों ने उसका गला रेत दिया.

मस्जिद के पास छोड़ा

हमलावर बदमाशों के भागने के बाद स्थानीय लोग खून से लथपथ रईस और राकेश को लेकर अस्पताल की ओर भागे. चर्चा है कि इसी दौरान किसी ने 50 हजार के ईनामी रईस को पहचान लिया. उसकी सांसे चल रही थीं. पुलिस के लफड़े से बचने के लिए एक बाइक पर बिठाकर एक युवक उसे नई सड़क स्थित लंगड़ा हाफिज मस्जिद के पास छोड़ा दिया.

हेलमेट लगाए हुआ युवक बाइक छोड़कर पैदल ही दालमंडी की ओर निकल गया. किसी तरह से रईस मस्जिद में दाखिल हुआ. मगरीब की नमाज का वक्त होने पर नमाजी जब पहुंचे तो खून से लथपथ युवको देख इसकी जानकारी डायल-100 को दी.

दोनों की गयी जान

तीन गोली लगने से स्पॉट पर दम तोड़ चुके राकेश को पतालेश्वर से परिजन कबीरचौरा अस्पताल ले भागे. जहां डॉक्टर्स ने मृत घोषित कर दिया तो वहीं कुछ ही देर बाद खून से लथपथ रईस को नई सड़क के लंगड़ा हाफिज मस्जिद से पीआरवी ने कबीरचौरा अस्पताल पहुंचाया. गला कटने और गोली लगने के कारण अधिक खून बहने से रईस इलाज शुरू होते ही दम तोड़ दिया.

पुलिस की अलग ही स्टोरी

पुलिस का कहना है कि राकेश पातालेश्वर में मौजूद था. तभी रईस बनारसी उसकी हत्या की नियत से असलहा लेकर पहुंचा और हमला कर दिया. राकेश ने भी गोलियां चलायीं आमने-सामने हुई फायरिंग में राकेश तुरंत ढेर हो गया तो वहीं रईस को भी गोली लगी और वह एक साथी के साथ नई सड़क की ओर भागा लेकिन गोली लगने की वजह से वह भी नहीं बच सका. मंडलीय हॉस्पिटल कबीरचौरा में पहुंचे एसपी सिटी दिनेश सिंह, एसपी क्राइम ज्ञानेंद्रनाथ और सीओ दशाश्वमेध अंकिता सिंह ने घटना की तस्दीक की. बारी-बारी पुलिस अधिकारियों ने स्पॉट पतालेश्वर और नई सड़क का इंस्पेक्शन किया.