-दैनिक जागरण ऑफिस में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने प्रबुद्धजनों से किया संवाद

-सितंबर तक 6400 रेलवे स्टेशंस पर होगा वाई-फाई

VARANASI

केंद्रीय रेल व कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कई दिनों तक प्रचार की कमान संभाले रहे। नई दिल्ली रवाना होने से पहले शुक्रवार को वे दैनिक जागरण ऑफिस आए और काशी के प्रबुद्धजनों संग संवाद किया। गोयल ने संसदीय चुनाव में बड़ी जीत का दावा करने के साथ ही रेल के विकास पर बात की।

स्टेशन का इंटरनेट करेगा विकास

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि मोदी सरकार के काम के तरीके से सिस्टम की सोच भी बदली है। सरकार ने देश के 400 रेलवे स्टेशनों पर फ्री वाई-फाई सुविधा की शुरुआत की और अब इनकी संख्या 1600 पहुंच गई है। दो सितंबर 2019 तक 6400 रेलवे स्टेशन इस सुविधा से युक्त हो जाएंगे। वाई-फाई स्टेशनों के माध्यम से देश के कौशल विकास की स्पीड भी बढ़ रही है। यूथ इंटरनेट के माध्यम से सीखने के साथ ही अपनी समझ भी बढ़ा रहे हैं। बताया कि योजना के तहत सीएसआर द्वारा संबंधित स्टेशनों पर युवक लैपटॉप लेकर हर दिन कुछ घंटों के लिए मौजूद रहेंगे जो आसपास के युवाओं का कौशल विकास में मदद करेंगे। केंद्रीय मंत्री का स्वागत दैनिक जागरण के प्रबंध संपादक तरुण गुप्त ने तुलसी का पौधा देकर किया। धन्यवाद ज्ञापन वाराणसी के निदेशक वीरेंद्र कुमार ने किया। संवाद का संचालन राज्य संपादक आशुतोष शुक्ल ने किया। इस मौके पर राजनीतिक संपादक प्रशांत मिश्र भी मौजूद रहे।

टॉफी व क्रिकेट किट से रोका पथराव

रेल मंत्री ने बताया कि रेलवे की टीम ने उन गांवों और जगहों को चिन्हित किया जहां ट्रेंस पर पथराव की घटनाएं हो रही थीं। आमतौर पर मिला कि किशोर और युवा शरारत में ऐसा कर रहे हैं। अलग-अलग टीम गांवों में गई। बच्चों को टॉफी बांटी गई, युवाओं को फूल देकर समझाने के साथ खेलकूद के लिए प्रेरित करने के क्रम में क्रिकेट किट भी दिए गए। उन जगहों पर पथराव बंद हो गया।

एक्सप्रेस वे संग सेमी हाई स्पीड ट्रेन

रेलमंत्री ने बताया कि बुलेट ट्रेन 2023 तक देश में आ जाएगी। हम यह भी विचार कर रहे हैं कि यूपी में एक्सप्रेस वे के समानांतर सेमी हाई स्पीड नेटवर्क भी तैयार हो। इस बारे में सीएम योगी से भी बात हुई है। यह सेमी हाई स्पीड ट्रैक पूर्वाचल एक्सप्रेस वे के साथ चलते हुए गाजीपुर तक जाएगा।

एलईडी बल्ब से बचाए करोड़ों

केंद्रीय मंत्री ने एलईडी बल्ब के जरिए बिजली बचत के क्षेत्र में हुए व्यापक सुधार के बारे में विस्तार से बताया। बोले, सामान्य बल्ब की जगह अब तक देश में 145 करोड़ एलईडी बल्ब लगाए जा चुके हैं। इसमें 111 करोड़ आम उपभोक्ताओं व 44 करोड़ सरकारी प्रतिष्ठानों ने लगाए। इतने एलईडी की खरीद पर देशवासियों ने 15 हजार करोड़ खर्च किए और बिजली के बिल में 50 हजार करोड़ रुपये की बचत हुई।