- रेलवे बोर्ड चेयरमैन आज कर सकते हैं 20 लाख कानपुराइट्स की समस्याओं का समाधान

- मंधना से अनवरगंज तक रेलवे ट्रैक हटने से जीटी रोड में लगने वाले जाम से मिलेगी राहत

- अनवरगंज ट्रैक हटने के साथ ही कानपुर को मिल सकती हैं कई अन्य सौगात

द्मड्डठ्ठश्चह्वह्म@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

द्मड्डठ्ठश्चह्वह्म.

कानपुर की जीटी रोड स्थित रेलवे क्रासिंग पर डेली जाम से जूझने वाली लगभग 20 लाख आबादी के लिए अच्छी खबर है. क्योंकि जल्द ही उन्हें इस जाम से राहत मिल सकती है. दरअसल, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन के कानपुर आने व अनवरगंज से मंधना तक रेलवे ट्रैक का निरीक्षण करने के प्लान से कयास लगाए जा रहे हैं कि सैटरडे को ही अनवरगंज-मंधना ट्रैक हटाए जाने पर मोहर लग सकती है. इसके साथ ही रेलवे बोर्ड चेयरमैन अश्रि्वनी लोहानी कानपुराइट्स को कई नई सौगात दे सकते हैं. रेलवे अधिकारियों के मुताबिक रेलवे बोर्ड चेयरमैन का कानपुर आने का मकसद फर्रुखाबाद ट्रैक को मंधना से पनकी को जोड़ने वाले प्रोजेक्ट पर मोहर लगाना है.

श्रमशक्ति से आएंगे कानपुर

रेलवे अधिकारियों के मुताबिक रेलवे बोर्ड चेयरमैन फ्राइडे की देर रात दिल्ली से कानपुर के लिए श्रमशक्ति एक्सप्रेस से चलेंगे. सैटरडे सुबह दो घंटे रेस्ट करने के बाद वह मंधना के लिए स्पेशल ट्रेन से निकलेंगे. मंधना में एक घंटे के निरीक्षण के बाद वह वापस इलेक्ट्रिक लोको शेड पहुंचेंगे. जहां पौधरोपण कर सोलर पॉवर प्लांट का उद्घाटन करेंगे. साथ ही इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर वह कानपुर सेंट्रल स्टेशन का निरीक्षण करेंगे.

इन योजनाओं की मिल सकती सौगात

- 100 करोड़ से कानपुर सेंट्रल स्टेशन का रीडेवलपमेंट

- गोविंदपुरी स्टेशन को टर्मिनल स्टेशन बनाने की योजना

- अनवरगंज-मंधना रेलवे ट्रैक हटाए जाने को लेकर निर्णय

- मंधना से पनकी तक नया रेलवे ट्रैक बिछाने को लेकर निर्णय

- भीमसेन से कानपुर सेंट्रल तक एलीवेटेड रेलवे ट्रैक

- रेलवे कर्मचारियों के भवनों का पीपीपी मॉडल से निर्माण

- सेंट्रल स्टेशन कैंट साइड मल्टी स्टोरी पार्किंग व पार्क निर्माण