टिकट बुक करते वक्‍त ही बता देगी कंफर्म टिकट की पॉसिबिलिटी
पहले तो फेस्टिव सीजन या छुट्टियों के सीजन में कन्फर्म रेलवे टिकट मिल पाना किला फतेह करने के बराबर होता था लेकिन अब तो जनाब पूरे साल ही ऐसा हाल रहता है अगर आपको अचानक कहीं जाना पड़ जाए तो कन्फर्म रेलवे टिकट तो भूल ही जाइए लेकिन फिर भी बेचारा इंसान क्या करे। वो तो टिकट बुक कर लेते हैं और वेटिंग केकन्फर्म होने का इंतजार लास्ट मोमेंट तक करते हैं। अगर टिकट कन्फर्म ना हो तो अंतिम दिन आनन फानन में अपने जर्नी को पूरा करने के लिए कोई नई जुगाड़ ढूंढते हैं। पैसेंजर्स की मुश्किलों को कम करने के लिए रेलवे कुछ नया सोच रहा है। रेल मंत्रालय के प्रवक्ता ने हाल ही में एक समाचार एजेंसी को बताया कि रेलवे बहुत जल्दी एक ऐसे मोबाइल ऐप को लाने जा रहा है जो यह बताने में समर्थ होगा कि किसी वेटिंग टिकट के कन्फर्म होने की संभावना कितनी है। कहने का मतलब यह है कि अगर रिजर्वेशन कराने वाले को टिकट बुक करते समय या जर्नी के दिन से काफी पहले ही पता चल जाए कि उसका टिकट कंफर्म हो सकता है या बिल्कुल नहीं। तो फिर वह दूसरा इंतजाम आराम से कर सकता है।

यह ऐप बताएगी कि आपका वेटिंग टिकट कन्फर्म होगा या बिल्‍कुल नहीं,तो अब मिलेगी मन की शांति!


सिर्फ
30 सेकेंड में बुक हो जाएगा तत्काल टिकट! जानिए हाईटेक तरीका

पिछले 13 सालों के रिजर्वेशन पैटर्न के आधार पर ऐप करेगी भविष्‍यवाणी
रेलवे के अधिकारी के मुताबिक यह स्पेशल ऐप, भारतीय रेल के पिछले 13 सालों के पैसेंजर ऑपरेशन और रिजर्वेशन पैटर्न डाटा को एनालाइज करके यह जानकारी यूजर्स को देगा। रेलवे का यह खास एप 'रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र' द्वारा डेवलप किया जा रहा है। यह ऐप आईआरसीटीसी की वेबसाइट या रेलवे ऐप के थ्रू टिकट बुकिंग करने वाले हर उस यूजर को यह बताएगा कि उसकी टिकट कंफर्म होने की कितनी संभावना है।


अगर हेलमेट पहनना अपनी तौहीन समझते हैं
, तो देख लीजिए ये तस्‍वीरें, फिर तो सोते समय भी हेलमेट लगाएंगे!

रेल मंत्री के नए आइडिया से पैसेंजर्स को मिलेगी मन की शांति
रेलवे के अधिकारी के मुताबिक पूरे देश में हर दिन लगभग 13 लाख रेलवे टिकट बुक किए जाते हैं इनमें अलग अलग कैटेगरी के लिए उपलब्ध सीटों की कुल संख्या होती है लगभग 10.5 लाख। टिकट बुकिंग के कंफर्म होने या ना होने से जुड़ा यह ऐप बनाने के पीछे आखिर किस का दिमाग है। तो जनाब जान लीजिए कि देश के नए रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने ही पैसेंजर्स की इस मानसिक उलझन को कम करने के लिए यह नया Idea सोचा था। तो कुछ दिन और इंतजार कर लीजिए फिर टिकट बुक करने पर आप आसानी से जान पाएंगे कि आप को ट्रेन से सफर करना है या फिर बस या किसी दूसरे साधन से। ट्रेन में आप सफर कर पाएं या नहीं, लेकिन कम से कम आपको मानसिक शांति तो मिलेगी और आप लास्ट मोमेंट की भागम भाग से बच सकेंगे।

हाईवे पर चलने वालों जान लो रोड पर बनी इन लाइनों का मतलब, कहीं देर ना हो जाए...

Technology News inextlive from Technology News Desk

Technology News inextlive from Technology News Desk