- बचा नहीं डूब गया

घरों में घुसा पानी रमजान की खुशियों पर लगा रहा बंदिश

करेली बी ब्लॉक परेशान, नमाज के लिए घर से नहीं निकल पा रहे लोग

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: मानसून आते ही बारिश के पानी ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है. शहर का शायद ही ऐसा कोई इलाका हो जहां जलभराव से जनता को परेशानी का सामना न करना पड़ रहा हो. इसी तरह करेली के बी ब्लॉक की जनता भी नगर निगम की लापरवाही का खामियाजा भुगतने को मजबूर है. यहां नाले की पिछले कई सालों से सफाई नहीं होने से चंद मिनटों की बारिश का पानी घरों में घुस रहा है. जिसके चलते लोगों को रमजान के महीने में इफ्तार तैयारियों समेत मस्जिदों में नमाज पढ़ने तक के लिए परेशान होना पड़ रहा है.

बीस साल से नाले की सफाई नहीं

चौक, अटाला होते हुए करेलाबाग जाने वाला बड़ा नाला करेली बी ब्लॉक स्थित दुल्हन पैलेस गेस्ट हाउस के पीछे से होकर गुजरता है. इस नाले में शहर के कई छोटे नाले आकर मिलते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है पिछले बीस सालों से नाले की सफाई नहीं हुई है. कई बार नगर निगम से कहने के बावजूद इस ओर ध्यान नहीं दिया गया. हालात यह है कि इलाके में कई लोगों ने नाले पर अतिक्रमण कर घर और दुकान बनवा लिया है. जिसकी वजह से जब भी बारिश होती है, नाला ओवरफ्लो होने लगता है.

सौ से अधिक घरों में घुसा पानी

इस बार मानसून ने जैसे ही बुधवार की भोर में जोरदार दस्तक दी, इलाके के लोगों के रोंगटे खड़े हो गए. दिन निकलते ही इलाका का नजारा बदला हुआ था. नाले का पानी ओवरफ्लो होकर घरों में घुस चुका था. कमर तक जलभराव होने की वजह से सड़कों पर चलना दुश्वार था. यहां रहने वाले जावेद अंसारी ने बताया कि रसोईघर में बारिश का गंदा पानी पहुंच जाने की वजह से मुस्लिम बाहुल्य इलाके के सौ से अधिक घरों मं हड़कंप मच गया. रमजान के महीने में रोजा रखने वालों को इफ्तार करने के लिए बाजार से सामान खरीदना पड़ा. यहां तक कि लोग घरों से निकलकर नमाज के लिए मस्जिद तक नहीं पहुंच सके.

नाले पर अतिक्रमण से समस्या

इस एरिया में जलभराव का सबसे बड़ा कारण नाले पर अवैध निर्माण है. स्थानीय लोग बताते हैं कि दर्जनभर से अधिक लोगों ने अपने मकान और दुकान नाले के दोनों ओर बनवा रखे हैं. इसकी वजह से नाले की सफाई होना मुश्किल हो गया है. प्रशासन और नगर निगम को अवैध निर्माण को ढहाने की पहल करनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो बारिश के मौसम में हजारों लोगों का घर से निकलना दुश्वार हो जाएगा. इलाके रहने वाले मुन्ना और इमरान ने बताया कि रमजान के महीने में अभी तक मोहल्ले में साफ-सफाई, स्ट्रीट लाइट और पेयजल सुविधा पर भी नगर निगम ने ध्यान नहीं दिया है. जिससे लोगों में आक्रोश पनप रहा है. जावेद अंसारी कहते हैं कि दो साल पहले नगर निगम में अतिक्रमण को लेकर शिकायत दर्ज कराने के साथ आरटीआई के तहत सूचना भी मांगी थी, लेकिन दोनों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई.