सचिव ने दिए निर्माणों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को चेक करने के आदेश

MEERUT। गिरते भूजल स्तर को लेकर श् मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने प्रदेश के सभी कमिश्नर-डीएम को पत्र जारी कर 16 से 22 जुलाई तक भू-जल सप्ताह के तहत विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन के निर्देश दिए हैं। कमिश्नर अनीता सी मेश्राम ने एमडीए को भू-जल सप्ताह के दौरान प्रचार-प्रसार के निर्देश भी दिए हैं। एमडीए सचिव राजकुमार ने बताया कि भू-जल सप्ताह के दौरान 16 से 22 जुलाई तक विभिन्न तरह की गतिविधियों का संचालन एमडीए करेगा। इसके अलावा एक रेन वाटर हार्वेस्टिंग सेल का गठन भी किया गया है। जो रेन वाटर हार्वेस्टिंग के संबंध में तकनीकी जानकारी देगा।

सेमिनार का होगा आयोजन

शासन के निर्देशों के अनुपालन में एमडीए सचिव राजकुमार ने अधीनस्थों को निर्देश दिए हैं कि भू-जल सप्ताह के दौरान एक सेमिनार का आयोजन किया जाएगा। जिसमें विभिन्न विभागों के विशेषज्ञों के अलावा जनप्रतिनिधि और एनजीओ हिस्सा लेंगे। प्राधिकरण जनजागरूकता कार्यक्रम का संचालन एक सप्ताह तक करेगा। सचिव ने सभी जोन के प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में सघन चेकिंग अभियान चलाएं। 300 वर्ग मीटर (रुफ टॉप) से ऊपर के सभी निर्माणों पर अनिवार्य रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को चेक करें। यदि रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम स्थापित नहीं किया गया है तो संबंधित निर्माणकर्ता को नोटिस देकर कार्रवाई करें।

प्राधिकरण देगा जानकारी

शासन के निर्देश पर एमडीए में एक सेल की स्थापना की जा रही है, जहां पर जनसामान्य को रेन वाटर हार्वेस्टिंग के संबंध में तकनीकी जानकारी दी जाएगी। सचिव ने बताया कि एटीपी गोर्की के मेट्रो सेल स्थित कार्यालय में ही रेन वाटर हार्वेस्टिंग सेल की स्थापना की गई है।