बरेली. नगर निगम की टीम ने पार्षद की शिकायत पर वेडनेसडे को राजेंद्र नगर में तीन मकानों के अवैध निर्माण तोड़ दिए. टीम ने वहां अन्य कई मकानों पर कार्रवाई नहीं की. इससे स्थानीय लोगों में आक्रोश है. उन्होंने द्वेष भावना के चलते सिर्फ तीन लोगों पर कार्रवाई की शिकायत की है.

इंद्रानगर के पार्षद सतीश चंद्र मम्मा ने बीते दिनों अपने आवास के सामने सड़क किनारे अवैध रूप से कब्जा करने की शिकायत मेयर व नगर आयुक्त से की थी. उनकी शिकायत पर वेडनेसडे को नगर निगम की टीम ने मौके पर पहुंचकर ठेकेदार जेपी भाटिया समेत तीन लोगों के घर के बाहर अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया. टीम ने राजकुमार गर्ग के कहने पर दस दिन का समय दे दिया. निगम की एकतरफा कार्रवाई का स्थानीय लोगों ने विरोध किया. वहां रहने वाले नितिन भाटिया, रजत अरोड़ा, अश्विनी आनंद, सोनू खट्टर आदि ने आरोप लगाया कि बीते दिनों कूड़ादान हटवाकर दूसरी जगह रखवाने के चलते पार्षद ने कार्रवाई करवाई है. उन्होंने पक्षपात का आरोप लगाया. कहा, पूरी गली में दुकानें व घर आगे बढ़ाकर अतिक्रमण किया गया है. पार्षद के आवास के बाहर भी अतिक्रमण है. बावजूद इसके सिर्फ उन पर एकतरफा कार्रवाई की गई है.

बांस मंडी में फिर भड़के लोग

बरेली : बांस मंडी में बीते करीब दो महीने से मुख्य मार्ग पर जलभराव हो रहा है. बीते दिनों स्थानीय लोगों ने जाम लगाकर हंगामा किया था. उस वक्त आश्वासन के साथ ही कुछ समय के लिए जल निकासी कर दी गई. अब दोबारा पहले सी स्थिति होने पर बुधवार को फिर से लोग भड़क गए. उन्होंने हंगामा किया. सूचना पर अतिक्रमण प्रभारी ललतेश सक्सेना मौके पर पहुंचे. उन्होंने लोगों को शांत करा दिया.