i special

-बहनें किसी भी समय बांध सकती हैं राखी, नहीं करना होगा शुभ मुहूर्त का इंतजार

bareilly@inext.co.in

BAREILLY: रक्षाबंधन के पर्व पर इस बार बहनों को भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए मुहूर्त का इंतजार नहीं करना पड़ेगा. सुबह से शाम तक किसी भी समय बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी को बांध सकती हैं. इस बार 37 साल बाद रक्षाबंधन पर भद्रा का साया नहीं होगा. इसलिए यह रक्षाबंधन इस बार बहन और भाई दोनों के लिए शुभ माना गया है.

5:51 खत्म भद्रा

ज्योतिषाचार्य पं. नीरज शर्मा ने बताया कि इस बार रक्षाबंधन बेहद ही शुभ है. 26 अगस्त को सुबह 5:51 बजे ही भद्र का साया खत्म हो जाएगा. फिर पूरे दिन में उसका कोई प्रभाव नहीं रहेगा. इस बार सावन की पूर्णिमा 25 अगस्त को दोपहर 3 बजकर 16 मिनट से शुरु होकर 26 अगस्त शाम 5 बजकर 25 मिनट तक रहेगी, जो राखी बांधने के लिए शुभ समय है. साथ ही उन्होंने बताया कि बहनों के लिए राखी बांधने का अत्यंत शुभ समय दोपहर 1:30 बजे से लेकर 4:00 बजे तक रहेगा.

ये रहेगा अशुभ समय

वैसे तो भाई की कलाई पर प्यार बांधने के लिए कोई भी समय अशुभ नहीं होता. लेकिन शास्त्रों के मुताबिक हर शुभ काम के लिए एक शुभ मुहूर्त निश्चित किया गया है. इस बार 26 अगस्त को शाम 4:30 बजे से लेकर 6:00 बजे तक राखी बांधने का अशुभ मुहूर्त रहेगा. इस डेढ़ घंटे में राहु काल रहेगा. मान्यता है कि भाई की दीर्घ आयु और खुशियों की कामना एक शुभ समय में की जाए तो वो निश्चित ही पूर्ण होती है.

एक नजर में

पूर्णिमा शुरू 25 अगस्त को दोपहर 3 बजकर 16 मिनट से

पूर्णिमा खत्म 26 अगस्त को शाम 5 बजकर 25 मिनट पर

भद्र का साया 26 अगस्त को सुबह 5:51 बजे खत्म

राखी बांधने का शुभ समय दोपहर 1:30 बजे से शाम 4:00 बजे तक

अशुभ समय शाम 4:30 से 6:00 बजे तक


अगर किसी भी समय भाई की कलाई पर राखी बांध सकते हैं तो इससे अच्छा और क्या है. हर बार भाई की खुशियों के लिए अच्छे समय का इंतजार करना पड़ता था.

आरती सक्सेना

पहले तो मुहूर्त देखने के बाद ही राखी बांधा करते थे. इस बार सुबह से ही अच्छा मुहूर्त है. तो फिर तो किसी से भी शुभ मुहूर्त के बारे मे पता करने की जरुरत ही नही है.

पूनम पटेल