-मीरगंज के हेमराजपुर गांव में आबादी से मात्र 5 मीटर दूर रामगंगा, एसडीएम पहुंचे गांव

<-मीरगंज के हेमराजपुर गांव में आबादी से मात्र भ् मीटर दूर रामगंगा, एसडीएम पहुंचे गांव

BAREILLYBAREILLY :

मीरगंज में रामगंगा नदी ने गोरा हेमराजपुर समेत दर्जनभर गांव में कहर बरपाना तेज कर दिया है. भू कटान के चलते परिवारों ने घरों को खाली कर पलायन शुरू कर दिया है. एसडीएम रोहित यादव बाढ़ खंड अभियंताओं को साथ लेकर गोरा हेमराजपुर गांव पहुंचे. उन्होंने सुरक्षा व्यवस्थाओं में तेजी लाने पर जोर दिया.

सैकड़ों बीघा फसल तबाह

तहसील के गांव हेमराजपुर गांव में आबादी के पास रामगंगा नदी पहुंच गई है. आबादी से महज भ् मीटर की दूरी पर नदी बह रही है. इससे ग्रामीणों को अपना घर कटने का डर सता रहा है. लेकिन खुद की जान बचाने के लिए ग्रामीणों ने मकानों को खाली कर पलायन करना शुरू कर दिया है. गांव ठिरिया बुजुर्ग, मोहम्मदगंज, हरदोई आदि भी इस नदी के निशाने पर है. जिसके चलते ग्रामीणों ने अपने आप ही अपना मकान खाली करना शुरू कर दिया है. क्योंकि प्रशासन के पास कटान रोकने के लिए कोई उपाय नहीं है. नदी जिस गति से कटान कर रही है उससे नहीं लगता कि कुछ बच पाएगा. वहीं एसडीएम रोहित यादव गोरा लोकनाथपुर के मजरा हेमराजपुर पहुंचे. नदी तट पर खड़े होकर नदी कटान की तेज फ्तार देखी. प्रशासन ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में क्ब् स्थानों पर बाढ़ चौकियों को खोला था. जिसमें एक चौकी गोरा हेमराजपुर के पास बहरौली में भी बनी हुई है, लेकिन वह भी कटान के लिए कुछ नहीं कर सके.

एसडीएम ने ग्रामीणों को समझाया

गांव पहुंचे एसडीएम ने ग्रामीणों को सतर्क किया. इस दौरान ग्रामीणों ने लेखपाल की शिकायत की. उन्होंने कहा कि सैकड़ो बीघा जमीन कट गई, अब फसल भी नहीं बची है. एसडीएम ने आक्रोशित ग्रामीणों को समझाकर शांत किया. बाढ़ खंड के सहायक अभियंता पुनीत कुमार से कहा कि नदी कटान से बचाने में जुटे. इस पर उनका कहना था कि कल से बाढ़ का कटान रोकने के लिए काम शुरू करेंगे. इस दौरान ब्लॉक प्रमुख राजीव गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष (भाजपा)सोम पाल शर्मा, संतोष शर्मा आदि भी मौजूद रहे.