क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : अगर आप भी रिम्स में इलाज के लिए जाते हैं और जहां-तहां थूकने की आदत है तो तत्काल इसे बदल डालिए. वरना आपको हॉस्पिटल में गंदगी फैलाने पर जुर्माना भरना पड़ सकता है. जी हां, हॉस्पिटल में गंदगी फैलाने वालों से अब रिम्स प्रबंधन फाइन वसूलने की तैयारी कर रहा है. इसके तहत गंदगी फैलाने वालों पर 500 रुपए तक फाइन लगाया जाएगा. हॉस्पिटल में जगह-जगह गंदगी से परेशान होकर रिम्स प्रबंधन ने यह कदम उठाया है. हॉस्पिटल में जल्द ही यह व्यवस्था लागू कर दी जाएगी.

पान-गुटखा थूककर कोना लाल

हॉस्पिटल के कोने-कोने में लोगों ने थूक कर दीवारों को गंदा कर दिया है. वहीं छज्जों और जमीन में कचरा फेंककर लोगों ने गंदगी फैला दी है. जहां हर दिन सफाई कराई जाती है. लेकिन शाम होने तक वहां पहले जैसी स्थिति हो जाती है. वहीं रात होते ही परिजनों की मनमानी शुरू हो जाती है. कई जगहों पर यूरीन और टॉयलेट किए जाने की भी शिकायत प्रबंधन को मिली है. इतना ही नहीं, गंदगी अधिक होने के कारण सफाई कर्मी भी परेशान हैं. कहीं न कहीं उन्हें इसका खामियाजा भी भुगतना पड़ता है.

सैप जवान काटेंगे चालान

हॉस्पिटल में पान-गुटखा खाकर प्रवेश करने पर भी रोक लगाने का आदेश दिया गया है. ऐसे में अगर कोई भी गंदगी फैलाते हुए पकड़ा जाएगा तो उस पर फाइन लगाया जाएगा. इसके लिए भी प्रबंधन चालान प्रिंट करा रहा है. सैप के एक जवान को सफाई की मॉनिटरिंग के लिए लगाया जाएगा. वहीं चालान काटकर हर दिन अकाउंट्स में जमा कराना होगा. इससे हॉस्पिटल की सफाई व्यवस्था में सुधार आएगी. वहीं चालान के पैसों से वेलफेयर का काम भी किया जाएगा.

नगर निगम से मांगा डस्टबिन

रिम्स में व्यवस्था सुधारने के लिए अधिकारी थोड़ा रेस हुए हैं. ऐसे में कचरा के लिए रांची नगर निगम से डस्टबिन की मांग की गई है. ताकि वार्ड के अलावा ओपीडी कांप्लेक्स में डस्टबिन लगा दिया जाए. इससे लोगों को कचरा हर हाल में डस्टबिन में ही डालना होगा. अगर कोई कचरा इधर-उधर फेंकते हुए पकड़ा जाएगा तो उससे फाइन वसूल किया जाएगा.

वर्जन

पूरे हॉस्पिटल को इलाज के लिए आने वाले लोगों ने गंदा कर रखा है. इसके लिए जल्द ही हमलोग फाइन लगाने का काम करेंगे. सैप के जवान को इसकी ड्यूटी दी जाएगी. जो रसीद लेकर हॉस्पिटल का राउंड करेगा और फाइन भी वसूलेगा. हॉस्पिटल को बेहतर बनाने के लिए हम प्रयास कर रहे हैं. इसके लिए मरीजों और उनके परिजनों को भी जागरूक होना होगा.

डॉ. आरके श्रीवास्तव, डायरेक्टर, रिम्स