ranchi@inext.co.in
RANCHI : रांची पुलिस ने बरियातू के हिल व्यू रोड स्थित किंगलैंड स्कूल की संचालिका आरती कुमारी व उनके बेटे रितिक की हुई हत्या मामले का खुलासा कर लिया है. इस डबल मर्डर में शामिल तीन अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि दो की तलाश में संभावित ठिकानों पर पुलिस छापेमारी कर रही है. पकड़े गए अपराधियों के पास से लूट के सामान भी बरामद किए गए हैं. उन्होंने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि लूटपाट के क्रम में ही उन्होंने इस हत्याकांड को अंजाम दिया था.

ऐसे दिया था कांड को अंजाम
एसएसपी अनीश गुप्ता ने बताया कि हत्याकांड का मास्टरमाइंड आशीष घोष भरमटोली का रहनेवाला है. उसने अपराधकर्मी राहुल कुमार सिंह को स्कूल संचालिका के पास ड्राइवर की नौकरी करने के बहाने भेजा था. इस बाबत राहुल ने प्रिंसिपल आरती को अपना फोन नंबर भी दिया था. फोन नंबर लेने के बाद वह वापस लौट गया था. इसके उपरांत 12 जुलाई की रात स्कूल संचालिका के घर लूट की योजना बनाई गई. वे सभी उसके घर पहुंचें. राहुल ने दरवाजा खुलवाया और अंदर राजेश कुमार उर्फ गुडडू, सोहराई लोहरा, जयकुमार सिंह घर के अंदर प्रवेश कर गए. आशीष घोष बाहर ही निगरानी करने लगा. अपराधियों ने आरती को चाकू दिखाकर कब्जे में लिया तो वह विरोध करने लगी. फलस्वरूप अपराधी सोहराई लोहरा, राहुल कुमार ने आरती कुमारी का गला दबाकर हत्या कर दिया.

रीतेश ने देख लिया इसलिए मार डाला
आरती कुमारी के बेटे रीतेश कुमार ने राहुल कुमार को पहचान लिया था. पहचान के बाद उसने कहा कि आप राहुल अंकल हो. भरमटोली में रहते हो, इसी बात को लेकर राहुल ने उसकी भी हत्या कर डाली और दोनों को फांसी का रूप दे दिया. इस कांड को खुलासा करने में सदर डीएसपी दीपक पांडेय, बरियातू थानेदार अजय केशरी समेत कई पुलिस अधिकारियों ने भूमिका निभाई.

पहले से थी दोनों की जान-पहचान
स्कूल संचालिका की हत्या में शामिल अपराधी उनके पूर्व परिचित थे. वे एक-दूसरे से भली-भांति वाकिफ थे. अपराधियों का मकसद सिर्फ स्कूल संचालिका के आवास पर लूट की वारदात को अंजाम देना था, लेकिन उनके द्वारा विरोध किए जाने व पहचान हो जाने की डर से ही दोनों को उन्होंने मार डाला और सुसाइड का रूप देने की कोशिश की.