पिता कोल्ड पर आलू देखने गए थे, पुत्रवधू चारा लेने गई

युवक जाते हुए देखे, निर्वस्त्र अवस्था में मिली किशोरी

आगरा. थाना सिकंदरा स्थित एक गांव में दिव्यांग युवती को दो युवकों ने निशाना बना लिया. घर में अकेला पाकर उसका रेप किया. मामले में आरोपी पक्ष समझौते का दबाव बना रहा था. पीडि़त पक्ष ने कई बार शिकायत की लेकिन पुलिस ने टरका दिया. मामला जब उच्चाधिकारियों को ट्वीट हुआ तब जाकर मामले में एफआईआर दर्ज की गई. लेकिन इसमें भी पुलिस ने हेरफेर कर दिया. किशोरी की उम्र बढ़वा कर युवती बना दिया. पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है.

काम से निकल गए थे सभी

गांव जुगसेना निवासी किसान की पत्‍‌नी का 20 मार्च 2018 को देहांत हो गया. उसके एक 16 वर्ष की बेटी है जो एक हाथ, एक पैर, एक आंख से दिव्यांग है. बेटा नोएडा में काम करता है. घर में पुत्रवधू के अलावा ढाई साल की नातिनी रहते हैं. शुक्रवार की सुबह पिता कोल्ड पर आलू देखने चले गए. पुत्रवधू दोपहर में खेत से चारा लेने चली गई. इसी बीच फरह मथुरा निवासी युवक गांव के ही एक युवक के साथ वहां पर आ गया.

अकेली देख कर किया रेप

युवकों ने भतीजी को घर से बाहर निकाल दिया. दिव्यांग किशोरी के साथ रेप किया. पुत्रवधू लौटी तो बाहर नातिन रोती हुई मिली. अंदर से किशोरी के चीखने की आवाज आ रही थी. उसने धक्का देकर दरवाजा खोला तो देखा कि दोनों युवक पीछे के रास्ते से जा रहे हैं. उनके कपड़े अस्त-व्यस्त थे. वहीं पर किशोरी निर्वस्त्र अवस्था में पड़ी थी.

पुलिस ने टरका दिया

पीडि़त परिवार रात में शिकायत लेकर रुनकता पुलिस चौकी पहुंचा तहरीर दी. पुलिस ने तहरीर तो ली पर मामला टरका दिया. इसके बाद दबंग आरोपी मामले में समझौते का दबाव बनाने लगा. पुलिस द्वारा सुनवाई न होने और दबंग के परेशान करने पर परिवार दहशत में आ गया. शनिवार को पुलिस द्वारा सुनवाई न होने की बात सोशल मीडिया पर वायरल हो गई.

अधिकारियों को किया ट्वीट

समाज सेवी नरेश पारस ने इस मामले में डीजीपी व यूपी पुलिस, आईजी जोन को ट्वीट किया. वहां से आदेश मिलने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया लेकिन पुलिस ने इसमें भी खेल कर दिया. नरेश पारस के मुताबिक जब पीडि़ता के परिवार से फोन पर बात की तो उन्होने उसकी उम्र करीब 16 वर्ष बताई जबकि पुलिस ने मुकदमें में उम्र 18 वर्ष लिखी है.

आरोपियों को मिलेगा लाभ

पुलिस को किशोरी की उम्र के हिसाब से पॉक्सो में मुकदमा दर्ज करना चाहिए था लेकिन पुलिस पुलिस ने परिवार से जबरन 18 साल उम्र लिखवा दी. नरेश पारस ने इस मामले को भी उच्चाधिकारियों को ट्वीट किया है.