-चेतगंज में मानवता का शर्मसार करने वाली हुई वारदात, मां की गोद से 11 साल की बच्ची को उठा ले गया नशेड़ी, दुष्कर्म का किया प्रयास

-लोगों के देख लेने पर बच गई बच्ची पर हालत गंभीर, पुलिस ने BHU में कराया भर्ती

क्ड्डह्मड्डठ्ठड्डह्यद्ब@द्बठ्ठद्गफ्ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

ङ्कन्क्त्रन्हृन्स्ढ्ढ

आज के दौर में मानवता तो मर चुकी है. शायद यही वजह है कि दरिंदे उन बच्चियों को भी अपनी हवस का शिकार बनाने से नहीं कांपते जिन्होंने अपनी मां की गोद भी नहीं छोड़ी है. ऐसी ही दिल व रुह को कंपकंपा देने वाली वारदात चेतगंज थाना क्षेत्र के कालीमहाल में हुई. यहां गुरुवार की देर रात ग्यारह माह की मासूम के साथ नशेड़ी युवक ने दुष्कर्म का प्रयास किया. क्षेत्रीय लोगों ने नशेड़ी युवक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. मासूम की हालत गंभीर है और बीएचयू में उसका इलाज जारी है.

सोते वक्त उठा ले गया

जौनपुर के मछली शहर के मूल निवासी दंपती अपनी ग्यारह माह की दुधमुंही बेटी के साथ कालीमहाल की एक गली में रहते हैं. पति-पत्नी बरगद के पत्ते जुटाकर उसे पान दरीबा में बेचते हैं. गुरुवार की रात दंपती अपनी बेटी के साथ पानदरीबा में सड़क किनारे सो रहे थे. इसी बीच सोनिया का रहने वाला नशेड़ी बच्चा राय पहुंचा और मासूम को मां की गोद से उठाकर कुछ दूर ले गया. इसके बाद उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास करने लगा. मासूम के रोने की आवाज सुन माता-पिता जाग गए.

मचा शोर तो जुट गए लोग

बच्ची संग दरिंदगी कर रहे नशेड़ी को देख बच्ची की मां जोर जोर से चिल्लाने लगी. जिसके बाद आसपास के लोग भी जाग गए और नशेड़ी युवक बच्चा को पकड़ लिया. पुलिस को सूचना देने के बाद उसकी जमकर पिटाई की. इस बीच पहुंची पुलिस ने आरोपी बच्चा राय को गिरफ्तार कर लिया है. एसपी सिटी दिनेश सिंह ने बताया कि आरोपी बच्चा राय नशे का आदी है और ईट ढोने का काम करता है. उसके खिलाफ पाक्सो समेत अन्य धाराओं में उसके केस दर्ज किया गया है.

बाक्स--

डॉक्टर्स से तो ये उम्मीद नहीं थी

मानवता को शर्मसार करने वाली इस घटना के बाद बची खुची कसर धरती के भगवान कहे जाने डॉक्टर्स ने पूरी कर दी. दरअसल दरिंदे के चंगुल से बचाये जाने के बाद भी वहशीपन के कारण बच्ची की हालत बिगड़ गई थी. तब पुलिस मासूम को लेकर मंडलीय अस्पताल कबीरचौरा पहुंची. प्राथमिक उपचार के बाद हालत गंभीर होने पर उसे बीएचयू के लिए रेफर कर दिया. चेतगंज पुलिस मासूम बच्ची को लेकर बीएचयू पहुंची तो वहां डॉक्टर्स ने पीडि़त बच्ची को एडमिट कर इलाज शुरू कर दिया लेकिन उन्होंने पुलिस से कहा कि इलाज में खर्च ज्यादा आयेगा. इस पर इंस्पेक्टर चेतगंज राजीव रंजन ने मानवता दिखाते हुए अपनी तरफ से बीस हजार रुपये बीएचयू में जमा कराया तब जाकर मासूम का आगे का उपचार शुरू हुआ.

पहले भी हो चुकी है दरिंदगी

क्क् जनवरी-पांच साल की बच्ची संग लोहता में रेप

क्क् मई-मंडुवाडीह में चार साल की मासूम संग दरिंदगी

क्0 जुलाई-जैतपुरा में सात साल की बच्ची से रेप

ख्फ् अप्रैल ख्0क्भ्-फूलपुर में मासूम संग हैवानियत