- कमिश्नर ने ली आरआरटीएस बोर्ड की बैठक, दिए दिशा निर्देश

-पहले फ‌र्स्ट फेस को पूरा करने के लिए दूर की जाएंगी बाधाएं

Meerut. मेरठ से दिल्ली का सफर 62 मिनट में तय कराने वाली रैपिड रेल प्रोजेक्ट को लेकर कमिश्नर आलोक सिन्हा ने सोमवार को आरआरटीएस बोर्ड अफसरों की बैठक बुलाई. बैठक में कमिश्नर ने आरआरटीएस के फ‌र्स्ट को पहले पूरा करने की बात पर जोर दिया. इसके साथ ही छह कके माह की भीतर प्रोजेक्ट की डीपीआर बनाए जाने के भी निर्देश दिए.

90 किमी की दूरी, 62 मिनट का सफर

आरआरटीएस द्वारा दिल्ली के सराय काले खां से मेरठ के मोदीपुरम तक दो चरणों में कार्य किया जाएगा. इसकी कुल दूरी 90 किमी होगी जोकि 62 मिनट का सफर होगा, जिसमें कुल 17 स्टेशन होंगे तथा एवरेज स्पीड मेट्रो से तिगुनी 90 किमी प्रति घंटा होगी. आरआरटीएस के लिएज्राज्य सरकार से अनुमोदन एनसीआरटीसी द्वारा चार माह में प्राप्त किया जाएगा तथा डीपीआर 6 माह में फरवरी 2017 तक बन जाएगी. कार्य के प्रारम्भ होने की तारीख से 4 से 5 वर्ष का समय कार्य पूर्ण होने में लगेगा.

दो चरणों में होगा काम

बैठक में मौजूद एनसीआरटीसी के एमडी विनय सिंह ने बताया कि आरआरटीएस द्वारा दिल्ली के सराय काले खां से मेरठ के मोदीपुरम तक दो चरणों में कार्य किया जाएगा. प्रथम चरण में दिल्ली के सराय काले खां से परतापुर मेरठ तक तथा द्वितीय चरण में परतापुर से मोदीपुरम तक कार्य किया जाएगा. उन्होंने बताया कि नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनसीआरटीसी) की स्थापना 21 अगस्त 2013 को कम्पनी एक्ट के अ‌र्न्तगत की गयी थी जिसमें 4ज्राज्यों उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा व दिल्ली का 25-25 प्रतिशत अंश है.

2032 से होगा काम

विनय सिंह ने बताया कि एनसीआरटीसी द्वारा इंटिग्रेटिड ट्रांसपोर्ट प्लान 2032 बनाया गया है जिसमें 8 कॉरीडोर में कार्य किया जाएगा जिसमें द्वितीय कॉरीडोर में जोकि दिल्ली से गाजियाबाद से मेरठ कुल 90 किमी का होगा. इसकी अधिकतम स्पीड 180 किमी प्रति घंटा व औसत स्पीड 90 किमी प्रति घंटा होगी. कुल कोच 12 होंगे तथा शुरुआती स्तर पर 6 कोच होंगे . जिसमें हवाई जहाज के पैटर्न पर बैठने की व्यवस्था होंगी. ककुल 17 स्टेशन होंगे, जिसमें से 15 मेन लाइन स्टेशन व 2 स्पर स्टेशन होंगे, 60 किमी ऐलिवेटिड व 30 किमी अंडरग्राउड होंगी. उन्होंने बताया कि मेरठ में परतापुर से मोदीपुरम 15 किमी की दूरी मेरठ मेट्रों के समानांतर होगी. प्रथम चरण में सराय काले खां से आनन्द विहार दिल्ली से परतापुर मेरठ तक कार्य होगा तथा द्वितीय चरण में परतापुर से मोदीपुरम तक कार्य होगा. प्रस्तावित डिपोट मोदीपुरम में होगा. 90 किमी की कुल दूरी 62 मिनट में तय होगी तथा दिल्ली के सराय काले खां से परतापुर मेरठ तक का सफर 50 मिनट में तय होगा.

21274 करोड़ का प्रोजेक्ट

उन्होंने बताया कि दिल्ली से मेरठ तक की आरआरटीएस की ऐस्कीलेशन व आईडीसी सहित कुल लागत 21274 करोड़ रुपए होगी और बिना कर के 16592 करोड़ तथा कर सहित 19084 करोड़ रुपये होगी. प्रोजेक्ट का इन्ट्रस्ट रेट ऑफ रिटर्न (आईआरआर) 5.78 प्रतिशत व इकोनॉमिक आईआरआर 22.31 प्रतिशत है. अलाइमेंट का नोटिफिकेशनज्राज्य सरकार से एनसीआरटीसी द्वारा प्राप्त किया जाएगा. डीपीआर फरवरी 2017 तक पूर्ण की जाएगी कन्सलटेंट डीआईएमडीएस कम्पनी है.

ये रहे मौजूद

इस मौके पर डीएम मेरठ मेरठ जगत राज, एमडीए वीसी योगेन्द्र यादव, एडीएम एलए डीपी श्रीवास्तव, मुख्य अभियन्ता लोनिवि सुधांशु यादव, कैन्ट बोर्ड के एसएसओ कर्नल रि0 टीआर देवगन, मुख्य अभियंता गजियाबाद विकास प्राधिकरण सुशील चन्द द्विवेदी, मुख्य अभियंता एमडीए एससी मिश्र, नगर निगम केबी वाष्र्णेय, अधीक्षण अभियंता लोनिवि राम अवतार शर्मा, कन्सटेंट डीआईएमडीएस के समीर शर्मा, एटीपी विवेक भास्कर सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे.